दैनिक भास्कर हिंदी: उन्नाव दुष्कर्म : सीबीआई ने सेंगर के आवास समेत 17 स्थानों पर तलाशी की

August 5th, 2019

हाईलाइट

  • भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से निकाले गए उन्नाव दुष्कर्म मामले के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से पूछताछ करने के अगले दिन रविवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कहा कि उसने कुलदीप के आवासों समेत उत्तर प्रदेश के चार जिलों में दर्जनभर स्थानों पर छापे मारे
  • सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दिल्ली में आईएएनएस से कहा, सीबीआई लखनऊ, उन्नाव, बांदा और फतेहपुर में आरोपी और अन्य लोगों के परिसरों पर तलाशी की

लखनऊ/नई दिल्ली, 4 अगस्त (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से निकाले गए उन्नाव दुष्कर्म मामले के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से पूछताछ करने के अगले दिन रविवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कहा कि उसने कुलदीप के आवासों समेत उत्तर प्रदेश के चार जिलों में दर्जनभर स्थानों पर छापे मारे। सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दिल्ली में आईएएनएस से कहा, सीबीआई लखनऊ, उन्नाव, बांदा और फतेहपुर में आरोपी और अन्य लोगों के परिसरों पर तलाशी की। लखनऊ में गोमती नगर स्थित सेंगर के ठिकानों पर तलाशी की गई।

सीबीआई टीम ने शनिवार को सीतापुर जेल में सेंगर से पूछताछ की। सेंगर यहां लगभग एक साल से बंद है। लखनऊ में सीबीआई के सूत्रों ने कहा कि एजेंसी ने सेंगर से जेल में मिलने वाले लोगों की भी जानकारी ली है। पिछले महीने 28 जुलाई को हुई सड़क दुर्घटना के बाद भाजपा ने सेंगर को पार्टी से निकाल दिया था। दुर्घटना में उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता और उनके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे और पीड़िता की दो रिश्तेदारों की मौत हो गई थी।

पीड़िता की हालत अभी भी नाजुक है और वह वेंटिलेटर पर है। डॉक्टरों ने कहा कि उसे निमोनिया हो गया है और उसे ट्रायल पर भी वेंटिलेटर से नहीं हटाया जा सकता है। सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने रविवार को दुर्घटना वाले ट्रक के मालिक और क्लीनर से भी पूछताछ की।

सीबीआई ट्रक के मालिक डी.के. पाल के उस बयान पर ध्यान दे रही है कि ट्रक को फाइनेंस कंपनी की नजरों से बचाने के लिए उसकी नंबर प्लेट को काला किया गया था। फाइनेंस कंपनी ने उनके बयान पर जवाब देते हुए कहा कि सभी किस्तें समय पर चुकाई जा चुकी थीं।

लखनऊ में सीबीआई कोर्ट में पेश होते हुए पाल ने कहा कि सड़क दुर्घटना में कोई साजिश नहीं है और उसका सेंगर या किसी से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि जिस ड्राइवर से दुर्घटना हुई, वह उनके यहां लगभग 4-5 महीनों से काम कर रहा था, वहीं क्लीनर लगभग तीन साल से काम कर रहा था।