दैनिक भास्कर हिंदी: उन्नाव रेप मामला: CM योगी से अमित शाह ने फोन पर मांगी रिपोर्ट

April 12th, 2018

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उन्नाव के सामूहिक बलात्कार और पीड़िता के पिता की मौत मामले में रिपोर्ट मांगी है। इसके साथ ही उन्होंने इस मामले में सख्त कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए। भाजपा में पहले ही भारत बंद के बाद दलितों के उत्पीड़न पर पार्टी के ही चार सांसदों ने मोर्चा खोल दिया है। इसी बीच योगी सरकार की तरफ से रेप के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गृह विभाग से क्लीन चिट दे दी गई। 


बीते दिनों प्रधानमंत्री मोदी के साथ भी मुलाकात इसी मुद्दे और कानून व्यवस्था पर हुई थी। उन्नाव मामले के तूल पकड़ने के बाद बुधवार को लखनऊ जा रहे शाह कानून व्यवस्था की स्थिति पर भी सीएम योगी के साथ गहन मंथन करेंगे। कई सांसदों का आरोप है कि स्थानीय प्रशासन के अधिकारी मनमानी करते हैं, मगर इसकी शिकायत का सीएम योगी कोई संज्ञान नहीं लेते। एक दलित सांसद ने सीएम योगी पर डांट कर भगाने का भी आरोप लगाया है। 


पीएम मोदी और आमित शाह के इन मसलों पर सवाल किए जाने के बाद सीएम योगी की सरकार हरकत में आई। राज्य सरकार ने संबंधित थाना प्रभारी समेत 6 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया। इसके साथ ही आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के 4 समर्थकों को गिरफ्तार किया गया है। मुख्यमंत्री ने आरोपी विधायक को भी तलब किया है।


दूसरी ओर योगी सरकार ने स्‍वामी चिन्मयानंद पर से भी शिष्या से बलात्कार का केस हटाने का आदेश दिया है। सरकार ने पूर्व केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री और मुमुक्षु आश्रम के प्रमुख स्‍वामी चिन्‍मयानंद पर दर्ज बलात्‍कार का मुकदमा वापस लेने का फैसला किया है। इस आशय की चिट्ठी नौ मार्च, 2018 को जिला मजिस्‍ट्रेट, शाहजहांपुर के कार्यालय से जारी हुई है। वरिष्‍ठ अभियोजन अधिकारी को संबोधित पत्र एडीएम (प्रशासन) के दस्‍तखत से जारी हुआ है। उसी दिन सक्षम अधिकारी को इस पर अमल के लिए भी लिख दिया गया है। पत्र में लिखा गया है कि शासन ने शाहजहांपुर कोतवाली में स्वामी चिन्मयानंद पर दर्ज धारा-376,506 आईपीसी का केस वापस लिए जाने का फैसला हुआ है। 


बता दें कि जौनपुर से सांसद बनने के बाद स्वामी चिन्मयानंद वाजपेयी सरकार में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री थे। इस दौरान उनके संपर्क में आईं बदायूं निवासी साध्वी चिदर्पिता नामक महिला ने 2011 में उन पर हरिद्वार के आश्रम में बंधक बनाकर दुष्कर्म का आरोप लगाया था।