comScore

24 घंटे में सुलझा कमलेश मर्डर केस ,डीजीपी बोले-पैगंबर पर टिप्पणी के कारण हुई हत्या

24 घंटे में सुलझा कमलेश मर्डर केस ,डीजीपी बोले-पैगंबर पर टिप्पणी के कारण हुई हत्या

हाईलाइट

  • कमलेश तिवारी हत्याकांड में यूपी पुलिसा ने किया खुलासा
  • हत्या की साजिश सूरत में रची गई
  • हत्या के पीछे मुख्य वजह कमलेश का 2015 का भड़काऊ भाषण

डिजिटल डेस्क,लखनऊ। कमलेश तिवारी हत्याकांड में यूपी पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि तिवारी की हत्या में शामिल रहे तीन आरोपियों को सूरत से गिरफ्तार किया गया है। जबकि दो लोगों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है।  

डीजीपी ने बताया,'यूपी और गुजरात पुलिस की एक संयुक्त टीम ने तीन व्यक्तियों को हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ जारी है। इनके नाम मौलाना मोहसिन शेख, फैजान, और खुर्शीद अहमद पठान है। दो अन्य आरोपियों को भी हिरासत में लिया था, लेकिन रिहा कर दिया गया।' 

उन्होंने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में हिरासत में लिए तीनों की कोई आपराधिक पृष्ठभूमि सामने नहीं आई है। जरूरत हुई तो हम उन्हें रिमांड में लेंगे और उत्तरप्रदेश लाकर पूछताछ करेंगे। 

डीजीपी ने कहा कि दो लोगों को साजिशकर्ता के रूप में गिरफ्तार किया है। मौलाना अनवारुल हक और मुफ्ती नईम काजमी को हिरासत में लिया गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। उन्होंने कहा कि, हम गुजरात, बिजनौर, लखनऊ और अन्य स्थानों की निगरानी करेंगे। 

उन्होने कहा कि, हम गुजरात आतंकवाद निरोधी दस्ते के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। अब तक किसी आतंकवादी संगठन के नाम सामने नहीं आया है। हम सभी विवरणों पर गौर कर कार्रवाई कर रहे हैं। डीजीपी ने आगे बताया, रशीद पठान जो कंप्यूटर का जानकार है। उसने ही हत्या का प्लान बनाया था। प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया है कि हत्या के पीछे मुख्य कारण 2015 का भड़काऊ भाषण था। बता दें कमलेश तिवारी पैंगबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित बयान दिया था। जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। फिलहाल तिवारी जमानत पर रिहा थे। 

कमेंट करें
92fnj