दैनिक भास्कर हिंदी: मौसम अपडेट: हिसार की रात 47 साल में रही सबसे ठंडी, उत्तर भारत में कड़कड़ाती ठंड के बीच 3-5 जनवरी को बारिश के आसार

January 1st, 2021

हाईलाइट

  • 1973 के बाद हिसार में सबसे ठंडी रात
  • 1973 के बाद हिसार में सबसे ठंडी रात
  • 3 से 5 जनवरी तक ओलावृष्टि के साथ बारिश की संभावना

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में नए साल के जश्न की तैयारियों के बीच भारतीय मौसम विभाग ने गुरुवार को उत्तर भारत में 3 से 5 जनवरी तक आंधी-तूफान के साथ जोरदार बारिश होने की भविष्यवाणी की है, जहां इस वक्त न्यूनतम तापमान 3.3 डिग्री सेल्सियस है। वहीं हरियाणा के हिसार शहर में गुरुवार को तापमान शून्य से नीचे दर्ज किया गया। यहां बुधवार की रात ने 47 साल में सबसे ठंडी दिसंबर की रात का रिकॉर्ड तोड़ दिया। हिसार में तापमान सामान्य से आठ डिग्री नीचे, यानी शून्य से 1.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। आईएमडी ने कहा कि सन् 1973 के बाद से हिसार में यह महीने की सबसे ठंडी रात थी। यहां पारा शून्य से 1.5 डिग्री तक नीचे गिर गया था।

1973 के बाद हिसार में सबसे ठंडी रात
IMD ने कहा कि सन 1973 के बाद से हिसार में यह महीने की सबसे ठंडी रात थी। यहां पारा शून्य से 1.5 डिग्री तक नीचे गिर गया था। हिसार इस क्षेत्र का सबसे ठंडा स्थान था, क्योंकि पिछले 24 घंटों में पंजाब और हरियाणा के मैदानी इलाकों में शीत लहर की स्थिति बनी रही। हरियाणा के नारनौल में न्यूनतम तापमान शून्य से 0.5 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया है, जबकि पंजाब के बठिंडा में यह शून्य डिग्री था। चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 2.7 डिग्री दर्ज किया गया, जबकि अमृतसर में 1.6 डिग्री और लुधियाना में 4.1 डिग्री दर्ज किया गया। चंडीगढ़ और अमृतसर शिमला की तुलना में दिन में अधिक ठंडे थे। मौसम कार्यालय ने कहा कि इसी तरह, उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में कई स्थान हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी पर्यटन स्थलों की तुलना में अधिक ठंडे थे।

उत्तर भारत में अगले 24 घंटे में शीत लहर की स्थिति हो सकती है
मौसम विभाग ने शुक्रवार को अनुमान लगाया है कि हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और पश्चिम मध्य प्रदेश जैसे इलाकों में अगले 24 घंटे में शीत लहर की स्थिति हो सकती है। नए साल के जश्न में बाहर निकलने वाले लोगों को इस बात की खास सावधानी बरतनी होगी कि 1 जनवरी तक उत्तरी भारत के कुछ हिस्सों में घने कोहरे के बीच दृश्यता 50 मीटर तक ही होगी।

आमतौर पर मौसम विभाग उस वक्त शीतलहर की घोषणा करता है, जब मैदानी इलाकों में लगातार दो दिन तक तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या इससे कम बना रहता है और सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस कम होता है। दिल्ली में 3.1 डिग्री सेल्सियस के साथ लोधी रोड इलाका सबसे ठंड रहा, जबकि हिसार में यहीं स्थिति हरियाणा की है।

3 से 5 जनवरी तक ओलावृष्टि के साथ बारिश की संभावना
IMD ने अपने दैनिक बुलेटिन में कहा कि 3 से 5 जनवरी तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तरी राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तर-पश्चिम मध्य प्रदेश में गरज या ओलावृष्टि के साथ बारिश होगी। पश्चिमी विक्षोभ और बंगाल की खाड़ी से निचले स्तर के ईस्टर के प्रभाव के चलते भारी बारिश होगी। 3 जनवरी से एक नए पश्चिमी विक्षोभ के कारण पश्चिमी हिमालय क्षेत्र और इसके आसपास के मैदानी इलाकों के प्रभावित होने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...