गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस की परेड में दिखेगी नारी शक्ति की झलक, मिस्र के राष्ट्रपति बनेंगे खास मेहमान, देखेंगे भारतीय सेना का शौर्य

January 25th, 2023

हाईलाइट

  • गणतंत्र दिवस की तैयारी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश इस साल 26 जनवरी, 2023 को अपना 74वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है। इसी दिन साल 1950 को हमारा सविंधान लागू हुआ था। जिसके उपलक्ष्य में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। कर्तव्य पथ पर रिपब्लिक डे की तैयारी जोर शोर से की जा रही हैं। बता दें कि, केंद्र सरकार ने बीते साल सिंतबर माह में राजपथ का नाम बदलकर कर्तव्य पथ रख दिया था। यह पहला मौका होगा जब यहां गणतंत्र दिवस की परेड होगी। भारत गणतंत्र दिवस को राष्ट्रीय पर्व की तरह मनाता है। इस दिन कर्तव्य पथ पर भव्य परेड का आयोजन होगा। अलग-अलग राज्यों की झांकी भी निकलेंगी। 

जिसमें हर राज्य अपनी संस्कृति को देश और अंतर्रराष्ट्रीय मंचो पर रखने का काम करता है। भारत दुनिया को झांकी के जरिए विविधता में एकता का मैसेज देना चाहता है। गणंतत्र दिवस परेड में देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति समेत आम और खास लोग शामिल होते हैं। इसके अलावा कई अन्य राष्ट्रों से मेहमानों को भी आमंत्रित किया जाता है। इस बार भारत सरकार ने गणतंत्र दिवस के मौके पर मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल सिसी को बतौर चीफ गेस्ट आमंत्रित किया है। जो भारत के शौर्य और पराक्रम का साक्षी बनने के लिए भारत पहुंच चुके हैं।

विविधता में एकता रखता है भारत

विविधता में एकता का विश्वास रखने वाले भारत के महापर्व पर इस वर्ष 23 झांकियां निकलने वाली हैं। जिनमें 17 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की खूबसूरत झांकियां होंगी, जबकि 6 झांकियां अलग-अलग मंत्रालयों और विभागों की देखने को मिलेंगी। गृह मंत्रालय की दो झाकियां होने वाली है। इनमें नारेकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो और सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्स की एक-एक झांकी होगी। जो समाज में एक अच्छा संदेश देने के माध्यम से उतरेगी। इसके अलावा जनजातीय मामलों के मंत्रालय, कृषि मंत्रालय, और संस्कृति मंत्रालय की एक-एक झांकी कर्तव्य पथ पर देखने को मिलेंगी। साथ ही आवास और शहरी मंत्रालय के अंदर आने वाली केंद्रीय लोक निर्माण विभाग की भी एक झांकी कर्तव्य पथ पर निकलने वाली है। 

नारी शाक्ति पर आधारित होगी झांकियां

राज्यों की बात करें तो, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, लद्दाख, जम्मू-कश्मीर, गुजरात, पश्चिम बंगाल, असम, हरियाणा सहित कई राज्यों की झांकी निकलने वाली हैं। जो कार्यक्रम में सम्मिलित हुए लोगों के मन को मोहने का काम करेंगी। इस बार ज्यादा झांकियों का विषय "नारी शाक्ति" पर आधारित है। इस बार पश्चिम बंगाल की झांकी में यही थीम देखने को मिलेगी। गणतंत्र दिवस के मौके पर राजधानी कोलकाता की भव्य दुर्गा पूजा को झांकी के जरिए दर्शाया जाएगा। हाल ही में यूनेस्को ने कोलकाता की भव्य दुर्गापूजा को विश्व हैरिटेज की सूचि में शामिल किया है। जिसका जश्न मनाते हुए पश्चिम बंगाल नारी शाक्ति का प्रदर्शन कर्तव्य पथ पर करेगा।

असम गणतंत्र दिवस के मौके पर कामाख्या मंदिर का प्रदर्शन करने वाला है। जबकि उत्तर प्रदेश इस बार दीपोत्सव से जुड़ी झांकी का प्रदर्शन करने जा रहा है। बता दें कि, बीते वर्ष दिपावली में रामनगरी अयोध्या में 15 लाख दिये जलाकर यूपी सरकार ने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। जो गिनीज बुक आफ व‌र्ल्ड रिकॉर्ड में जगह बनाने में कामयाब रही थीं। इस झांकी में गुरु वशिष्ठ की एक विशाल प्रतिमा अगले हिस्से में रखी जाएगी। जिसे दर्शकों का ध्यान आकर्षित किया जा सके।

गणतंत्र दिवस के खास मेहमान

हर साल किसी न किसी देश के राष्ट्रध्यक्ष को गणतंत्र दिवस के मौके पर आमंत्रित किया जाता है। इस बार मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल सिसी को आमंत्रित किया गया है। रिपब्लिक डे के मौके पर विदेशी चीफ गेस्ट को आमंत्रित करने की परंपरा रही है। हालांकि, बीते दो वर्षों से कोई भी मेहमान गणतंत्र दिवस के समारोह में सम्मिलित नहीं हुए थे। पैनडेमिक को देखते हुए बीते गणतंत्र दिवस पर किसी को भी निमंत्रण नहीं भेजा गया था। हालांकि, हालात सामान्य होने पर इस बार मिस्त्र के राष्ट्रपति अल सीसी रिपब्लिक डे की समारोह का शोभा बढ़ाएंगे।