दैनिक भास्कर हिंदी: राम मंदिर मुद्दे का समाधान बातचीत से निकले : योगी आदित्यनाथ

July 28th, 2017

डिजिटल डेस्क, अयोध्या। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को इस बात पर जोर दिया कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुद्दे का शांतिपूर्ण समाधान द्विपक्षीय बातचीत के जरिए निकाला जाना चाहिए। आदित्यनाथ ने कहा कि दोनों पक्षों को बातचीत के संबंध में हाईकोर्ट की सलाह का पालन करना चाहिए।

अयोध्या दौरे पर आए आदित्यनाथ ने कहा कि सरकार हिंदुओं और मुसलमानों दोनों की भावनाओं की रक्षा करेगी। सीएम ने अपने भाषण में इंडोनेशिया का जिक्र किया और कहा कि यह सबसे बड़ा मुस्लिम देश है, जहां रामलीला मनाई जाती है। उन्होंने कहा कि इंडोनेशिया ने उपासना के लिए इस्लाम को अपनाया, लेकिन वे अब भी रामायण की पुरानी परम्परा से काफी जुड़े हुए हैं। आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार रामायण सर्किट को पूर्ण और अंतिम रूप देने के लिए श्रीलंका से भारत को जोड़ने वाले राम सेतु का निर्माण करने पर गंभीरता से विचार कर रही है।

उन्होंने कहा कि रामायण सर्किट इस महाकाव्य में उल्लेखित सभी सांस्कृतिक और पारंपरिक केंद्रों को जोड़ेगा। उन्होंने बताया कि इस सर्किट को रामेश्वरम तक बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार उन सभी स्थानों को विकसित कर रही है, जो पांरपरिक और सांस्कृतिक रूप से हिंदू धर्म से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि नदियों पर घाट बनाने और रामलीला तथा कृष्णलीला जैसी सांस्कृतिक गतिविधियां भी प्राथमिकताओं में है।

राम चंद्र दास परमहंस को श्रद्धांजलि देने आए योगी

आदित्यनाथ राम मंदिर आंदोलन के नेता राम चंद्र दास परमहंस को श्रद्धांजलि देने के लिए अयोध्या में थे। परमहंस की पुण्यतिथि बुधवार को ही है। बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में आरोपियों में से एक परमहंस की 14 साल पहले मौत हो गई थी। दो महीने से भी कम समय में यह आदित्यनाथ का अयोध्या में दूसरा दौरा है।