comScore

सौतेली मां को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाने का प्रयास,पैसों के लिए करता था मारपीट

सौतेली मां को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाने का प्रयास,पैसों के लिए करता था मारपीट

डिजिटल डेस्क, नागपुर। एमआईड़ीसी थाना क्षेत्र में देर रात रौगटे खड़े कर देने वाली वारदात हुई। पेट्रोल डालकर सौतेली मां जिंदा जलाने का प्रयास किया गया।  पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर आरोपी पुत्र को गिरफ्तार किया है।  गंभीर रूप से जख्मी सुनीता वसंत मड़ावी (52)  को अस्पताल में भर्ती किया गया है। जानकारी के अनुसार  आरोपी उसी का सौतेला पुत्र प्रशांत उर्फ गोलू वसंत मड़ावी (30)  है। प्रशांत वाहन चालक है। रविवार की रात करीब साढ़े ग्यारह बजे के दौरान प्रशांत शराब पीकर घर आया। अपनी सौतेली मां सुनीता पर घर बर्बाद करने का आरोप लगाते हुए उससे विवाद किया। इससे पिता वसंत (62 ) ने प्रशांत को फटकार लगाकर उसे चुप कराने का प्रयास किया,मगर नशे में होने से वह पिता से भी झगड़ने लगा। रुपए मांगने लगा। इसके पहले भी उनमें इस तरह का विवाद कई बार हुआ है,मगर रात में इसने गंभीर मोड़ ले लिया।

सुनीता और वसंत कुछ समज पाते इसके पहले ही प्रशांत ने बोतल में लाया पेट्रोल सुनीता पर डाल दिया और आग लगा दी । इससे वसंत और बस्ती के कई लोगों के सामने सुनीता गंभीर रूप से झुलस गई।  वह 75 प्रतिशत झुलसने की बात चिकित्सकों ने बताई है। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। जिससे मेडिकल से उसे निजी अस्पताल में भर्ती किया गया है।  घटना के बाद पुत्री तेजस्विनी सहित परिवार के अन्य लोग बात करने की स्थिति में नही थे। बाकी रिश्तेदारों ने बताया कि,प्रशांत की घर में काफी दहशत थी। हमेशा वह शराब पीकर आता था और माता-पिता से पैसे  मांगता था। रुपए नही देने पर उन्हें जान से मारने की धमकी देता था। घटित प्रकरण से प्रशांत ने अपनी धमकी को सच कर दिखाया है।

बच्चों की खातिर की दूसरी शादी 

वंसत मड़ावी रेलवे से सेवानिवृत्त हुए हैं। पहले वे वर्धा में रहते थे। सेवानिवृत्ति के बाद वानाडोंगरी में रहने आ गए। वहीं पर उन्होंने प्लाट खरीदा और मकान का निर्माण कार्य शुरू किया।  फिलहाल वे शेख इरफान नामक व्यक्ति के घर मेें किराए पर रह रहे हैं। वसंत की दो शादियां हुई है। पहली पत्नी मंदाबाई का बरसों पहले बीमारी के कारन देहांत हुआ है। उस वक्त उसके बच्चे प्रशांत उर्फ गोलू ,विनोद और पुत्री मनीषा बहुत छोटे थे। नौकरी के साथ बच्चों के पालन-पोषन और घर की जिम्मेदारी संभालना मुश्किल था। इस कारन रिश्तेदारों ने उनकी दूसरी शादी कर फिर से घर बसाने की सलाह दी।   सुनीता से वसंत ने दूसरी शादी की। सुनीता से उन्हें पुत्री रेलवे कर्मी तेजस्विनी और पुत्र चेतन है। प्रशांत की दहशत के कारण वर्धा में अपने मामा के घर रहकर पढ़ाई कर रहा है। वर्तमान में वसंत,सुनीता और प्रशांत ही साथ में रहते हैं,लेकिन रुपए के लिए प्रशांत रोज ही उन्हें शारीरिक और मानसिक रुप से प्रताड़ित करता रहा है।

कई बार किया जान से मारने का प्रयास

इसके पहले भी प्रशांत अपनी सौतेली मां सुनीता को जान से मारने का प्रयास कर चुका है। वर्धा और नागपुर में प्लास्टिक के पाइप  से गला घोट दिया था,लेकिन परिवार के अन्य सदस्यों द्वारा बीच बचाव करने से उस समय सुनीता बाल - बाल बच गई। ताजा प्रकरण के दौरान भी वसंता ने सुनीता को बचाने का प्रयास किया,मगर चाहकर भी इस बार वह उसे बचा नही पाए और वह जल गई।

अस्पताल पहुंचाने के बाद थाने में किया समर्पण

गुस्से में प्रशांत ने अपनी मां को जला तो दिया,मगर बाद में उसे इसका पश्चताप भी हुआ और पुलिस का डर भी सताने लगा। जिससे पहले उसने मां को अस्पताल में भर्ती किया इसके बाद खुद ही थाने जाकर समर्पण किया,हालांकि घटित प्रकरण को लेकर यह भी कहा जा रहा है कि सुनीता प्रशांत व उसके अन्य भाई -बहनों का ध्यान नही देती थी। अपने बच्चों पर ज्यादा रुपया खर्च करती थी इस कारण वह सुनीता से खफा रहता था।

कमेंट करें
8tunz