comScore

भगवान सूर्य को अर्घ्य देने उमड़ा जनसैलाब, उत्सव की धूम

भगवान सूर्य को अर्घ्य देने उमड़ा जनसैलाब, उत्सव की धूम

डिजिटल डेस्क, नागपुर। ‘केरवा जे फरेला घवद से ओहपर सूग्गा मेडराय, मरबो रे सुगवा धनुख से सुगा गिरे मुरछाई’, ‘कांच ही बांस के बहंगियां, बहंगी लचकत जाए, होई न बलमजी कहरिया बहंगी घाटे पहुंचाई’ जैसे छठ गीतों से शहर के तालाब गूंज उठे। छठ महापर्व पर शनिवार को अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को अर्घ्य देने जनसागर उमड़ पड़ा। छठव्रतियों ने छठ गीत गाते हुए पूजन सामग्री अर्पित की। श्रद्धालुओं का पुष्पवर्षा से स्वागत किया गया। अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को पहला अर्घ्य देने के लिए छठव्रतियों ने िनर्जला व्रत रखा है, जो रविवार की सुबह सूर्योदय के समय दूसरा अर्घ्य देकर व छठमैया की विधिवत पूजा कर उपवास छोड़ा जाएगा।  दोपहर से ही छठव्रतियों का अंबाझरी तालाब पर आगमन शुरू हो गया था। परिवार के पुरुष पूजा सामग्री सिर पर लेकर चल रहे थे। अस्ताचलगामी सूर्यदेव को अर्घ्य देते समय सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए घाट पर बैठी महिलाओं द्व्रारा गाये गीतों से परिसर गूंज उठा। 

महापौर जिचकार, विधायक ठाकरे ने किया स्वागत

इस अवसर पर महापौर नंदा जिचकार, विकास ठाकरे, वरिष्ठ पार्षद तथा छठ पूजा पर्व केे आयोजक दयाशंकर तिवारी, सत्तापक्ष उपनेता वर्षा ठाकरे, संजय बंगाले, आर.आर. मिश्रा, एनपीटीआई केे पूर्व संचालक विजय सिन्हा, वेकोलि के जनसंपर्क अधिकारी सत्येंद्र प्रसाद सिंह, ब्रजभूषण शुक्ला, भोजराज डुंबे, अजय पाठक, संजय सिन्हा, राजेश शुक्ला, विजय तिवारी, अखिल बिहारी मंच के अध्यक्ष कौशल पाठक, विभूति भूषण राय, अशोक शुक्ला, वीरेंद्र पांडे, राजेश यादव, शैलेंद्र मिश्रा, शिवशंकर चतुर्वेदी, रामभूषण त्रिपाठी, नरेंद्र चतुर्वेदी, जयशंकर सिंह, अमर पारधी, संदीप पांडे, अजय सिन्हा, धर्मेंद्र दुबे, राकेश तिवारी, बहुराष्ट्रीय छठ पूजा समिति केे संजय शर्मा, पंडित दिनेश मिश्रा, कृपाशंकर तिवारी, अजय गौर , राकेश तिवारी, प्रियदर्शनी अभियांत्रिकी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. एम.पी. सिंह, वकील सिंह आदि उपस्थित थे।
अस्ताचलगामी सूर्य को प्रथम अर्घ्य देकर व्रतियों ने की उपासना

उदयाचल सूर्य को अर्घ्य

कन्हान में छठ महापर्व के तीसरे दिन व्रतधारी महिलाओं तथा परिजनों का हुजूम गाड़ेघाट व महादेवघाट नदी पर अस्ताचलगामी सूर्य को प्रथम अर्घ्य देने उमड़ा। शाम 4 बजे से छठ व्रतधारी त्रिवेणी संगम कर्णिका नदी तट गाड़ेघाट, महादेवघाट पर पहुंच रहे थे। 5 बजते ही अस्ताचलगामी सूर्य को भक्ति तथा श्रद्धा के साथ अर्घ्य दिया गया। पूजा सामग्री के साथ नदी तट पर छठ पूजा विधि पूरी अस्था के साथ की जा रही थी। छठ मैय्या के गीतों से नदी तट परिसर गुंज रहा था। कामठी शहर तथा सैनिक छावनी अधिकारी व सेना के जवानों के साथ अनेक शासकीय कार्यालयों में कार्यरत उत्तर भारतीय जो कि अनेक वर्षों से शहर तथा ग्रामीण क्षेत्रों के निवासी भी अब शहर से बहने वाली नदी पर ही छठ महापर्व  संयुक्त रूप से मना रहे हैं। महापर्व के चौथे दिन उदयाचल सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। उदयाचल सूर्य को नदी में खड़े होकर अर्घ्य देने की प्रक्रिया 6.30 बजे तक जारी रहेगी। इस दिन व्रतधारियों के परिवार के सभी सदस्य संयुक्त रूप से पूजा में हिस्सा लेकर भगवान सूर्य व छठी माता की उपासना करेंगे। 

सक्करदरा में पहली बार छठ पूजा

महापर्व छठ पूजा सेवा समिति व पूर्व नागपुर उत्तर भारतीय मोर्चा की ओर से सक्करदारा तालाब में पहली बार छठ पूजा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सैकड़ों परिवारों ने सूर्य देवता की पूजा-अर्चना की डूबते सूरज को अर्घ्य देकर छठ पूजा की। मोर्चा के अध्यक्ष सुधीर श्रीवास्तव व उनकी टीम ने सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई। तालाब को सुसज्जित करने के लिए डॉ. रवींद्र भोयर, दयाशंकर तिवारी ने प्रयास किया व सहयोग दिया। विधायक कृष्णा खोपड़े विशेष रूप से उपस्थित थे।

छठपूजा: बाजारगांव में उत्साह

बाजारगांव में छठ पूजा का पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बाजारगांव को एक छोटी औद्योगिक नगरी के स्वरूप मिलने से अनेक औद्योगिक ईकाई में बड़ी संख्या मंे उत्तर भारतीय कार्यरत हैं। शनिवार को अस्ताचलगामी सूर्य को पहला अर्घ्य नाईक सरोवर तलाब किनारे बनाए गए पूजाघाट पर दिया गया। रविवार की सुबह सूर्योदय के समय दूसरा अर्घ्य देकर व छठ मैय्या का विधिवत पूजन कर उपवास छोड़ा जाएगा। तलाब पर छठ पूजा के लिए  घाट की व्यवस्था व आयोजन के सफलतार्थ  भाजपा  युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष प्रफुल्ल तातोडे, छोटेलाल यादव, सागर सरयाम, अभिषेक माझी, संदीप पाटील व अर्जुन आदि प्रयासरत है।

उदयमान सूर्य को अर्घ्य

उमरेड में शनिवार को छट व्रतियों ने अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को पहला अर्घ्य दिया। महापर्व के तीसरे दिन शनिवार को अस्त होते हुए भगवान सूर्य को  पहला अर्घ्य देने के लिए निर्जला उपवास रखा था। शाम को वेकोलि व वायगांव निवासी छटवृती बांस की बनी टोकनी में पूजा के पकवान ,फल आदि से भरी टोकनी को सिर पर रखे छट मैय्या के गीत गाते हुए घाट की ओर बढ़ रहे थे। आम नदी के पानी में खड़े होकर पूजा सामग्री के साथ सूर्यास्त का इंतजार करने लगे। जैसे ही सूर्यास्त हुआ वैसे ही अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को पहला अर्घ्य दिया गया । घाट पर मेला जैसा वातावरण था। बच्चे पटाखे, आतिशबाजी चला कर आंनद ले रहे थे। क्षेत्रीय महाप्रबंधक आलोक ललित कुमार के निर्देश पर सिविल विभाग के सहायक प्रबंधक मनोहर सिंह, अभियंता प्रवीण महाजन, प्रवीण सिंघल आदि देखरेख के लिए मुख्य रूप से उपस्थित थे।

राधाकृष्ण मंदिर में अन्नकूट, 56 भोग दर्शन

वहीं राधाकृष्ण मंदिर, वर्धमान नगर में 56 भोग दर्शन एवं अन्नकूट महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। भगवान राधाकृष्ण, गिरिराज को अनेक प्रकार के भोग लगाकर सुंदर सजावट की गई। 56 भोग की पूजा-आरती श्यामसुंदर पोद्दार परिवार ने की। आरती में विधायक कृष्णा खोपडे, मनपा स्थायी समिति अध्यक्ष प्रदीप पोहाणे, पार्षद चेतनाबेन टांक, दुनेश्वर पेठे, उमाकांत अग्निहोत्री, गोविंद पोद्दार, मधुसूदन सारडा, मनोज अग्रवाल विशेष रूप से उपस्थित थे। 56 भोग के दर्शन का लाभ नंदकिशोर सारडा, सुरेश लखोटिया, रतन पोद्दार, कमलकिशोर अग्रवाल, अनिलकुमार सारडा, श्रीकिशन अग्रवाल, पुरुषोत्तम मालू, किसन झंवर, ब्रिंदेश अग्रवाल, राजू खंडेलवाल, मुरारीलाल अग्रवाल, संजय अग्रवाल, संतोष कुमार अग्रवाल, विशाल अग्रवाल, प्रताप मोटवानी, बी.सी. भरतीया, एड. मुकेष शर्मा, अनंत अग्रवाल ने लिया। मैनेजिंग ट्रस्टी पवन पोद्दार ने आभार माना। 
 

 

कमेंट करें
O41t3