comScore

महाराष्ट्र में हर पांचवा बच्चा खा रहा तंबाकू, जल्द हेल्पलाइन शुरू करेगी सरकार

November 14th, 2017 22:00 IST
महाराष्ट्र में हर पांचवा बच्चा खा रहा तंबाकू, जल्द हेल्पलाइन शुरू करेगी सरकार

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र में हर पांचवां बच्चा तंबाकू का इस्तेमाल कर रहा है। हर रोज 529 बच्चे इसके उत्पादों का सेवन करने की शुरुआत करते हैं। जो काफी चिंता का विषय है। टाटा मेमोरियल अस्पताल के डायरेक्टर राजेंद्र ए. बड़वे ने बच्चों में तंबाकू सेवन की लत पर गहरी चिंता जताई। मंगलवार को बाल दिवस के मौके पर टाटा मैमोरियल अस्पताल और संबंध हेल्थ फाउंडेशन (SHF) की तरफ से तंबाकू सेवन से बचपन बचाने को लेकर कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में गृहराज्य मंत्री डॉ. रंजीत पाटिल ने कहा कि बच्चों को तंबाकू सेवन से बचाने के लिए कई कानून हैं। जिसे लेकर सरकार कोटपा (सिगरेट एवं अन्य तंबाखू उत्पाद अधिनियम 2003) और जेजे एक्ट (किशोर न्याय अधिनियम) के प्रावधानों को कठोरता से लागू करेगी।

हेल्पलाइन होगी जल्द शुरू
डॉ पाटिल ने कहा कि सरकार की तरफ से हेल्पलाइन शुरू की जाएगी। इस पर कोई भी व्यक्ति प्रतिबंधित जगहों पर तंबाकू बचने या फिर उसके प्रयोग के बारे में जानकारी दे सकेगा। जानकारी देने वालों का नाम और पता गोपनीय रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा संस्थानों के सौ गज की दूरी तक किसी भी तरह के तंबाकू उत्पाद बेचने पर पाबंदी है। लेकिन कई जगहों पर इसकी बिक्री होती है। इस पर कठोर कार्रवाई के लिए संबंधित पुलिस अधिकारियों की बैठक बुलाई जाएगी। कोटपा कानून के तहत अभी तक हुई कार्रवाई की समीक्षा की जाएगी। प्रदेश के सभी पुलिस अधीक्षकों को पत्र लिख करके तंबाकू नियंत्रण पर काम की जानकारी मांगी जाएगी। इसको मासिक अपराध समीक्षा में भी शामिल किया जाएगा। 

केवल तीन प्रतिशत लोग ही छोड़ पाते हैं तंबाकू
इससे पहले डॉ बडवे ने बताया कि तंबाकू उत्पादों का सेवन करने वालों में केवल 3 प्रतिशत लोग ही इस लत को छोड़ पाते हैं। जबकि 97 प्रतिशत लोग सिर्फ तंबाखू छोड़ने के बारे में सोच कर ही रह जाते हैं। बडवे ने बताया कि अस्पताल में आने वाले कैंसर मरीजों में से 30 प्रतिशत मरीज ऐसे हैं जिनकी आयु 30 साल से कम होती है। राज्य में हर साल 72 हजार लोगों की कैंसर बीमारी से मौत होती है।

देश में 28.6 प्रतिशत लोग करते हैं तंबाकू का सेवन
 टाटा मेमोरियल अस्पताल के कैंसर सर्जन डा.पकंज चतुर्वेदी ने बताया कि ग्लोबल टोबैको सर्वे (गेट्स-2) की रिपोर्ट के मुताबिक देश में 28.6 प्रतिशत लोग किसी न किसी रूप में तंबाकू उत्पादों का उपयोग करते हैं। उन्होंने बताया कि सिगरेट के पैकट पर 85 प्रतिशत सचित्र चेतावनी के कारण काफी लोगों ने सिगरेट पीने और छोड़ने के बारे में सोचा है। संबंध हेल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) के ट्रस्टी संजय सेठ ने बताया कि प्रदेश में 76 हजार 480 स्कूल तंबाकू मुक्त हो चुके हैं। इसके खतरों से बच्चों को अवगत कराया जा रहा है। राज्य में 17 लाख बच्चे तंबाकू उद्योग से किसी न किसी रूप से जुड़े हुए हैं।

कमेंट करें
kGayn