comScore

शिवसेना उम्मीदवार शर्मा ने कहा- शिंदे की मदद से जेल नहीं अस्पताल में बिताए थे कैद के दिन

शिवसेना उम्मीदवार शर्मा ने कहा- शिंदे की मदद से जेल नहीं अस्पताल में बिताए थे कैद के दिन

डिजिटल डेस्क, मुंबई। पालघर जिले कि नालासोपारा सीट से शिवसेना के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा ने गुरूवार तो इलाके के लिए अपना घोषणापत्र जारी किया। इसमें इलाके के विकास के साथ-साथ शर्मा ने महिलाओं की सुरक्षा और नए पुलिस स्टेशनों के निर्माण को अपनी प्राथमिकता बताया है। वही शर्मा अपने चुनावी भाषण के लिए सुर्खियों में हैं जिसमें उन्होंने दावा किया कि लखनभैया एनकाउंटर मामले में साढ़े तीन साल में से उन्होंने ढाई साल जेल की बजाय अस्पताल में बिताए थे और मंत्री एकनाथ शिंदे ने इस मुश्किल दौर में उनकी काफी मदद की थी। 

शिवसेना के वरिष्ठ नेता शिंदे मौजूदा युति सरकार में एमएसआरडीसी मंत्री हैं। भाषण में शर्मा कहते नजर आ रहे हैं कि मुश्किल समय में शिंदे साहब ने मेरी काफी मदद की। साढ़े तीन साल की जेल की सजा के दौरान मैने ढाई साल अस्पताल में बिताए यह सिर्फ उनकी मदद के चलते संभव हुआ। शर्मा के भाषण का वीडियो वायरल होने के बाद उनके प्रवक्ता ने सफाई दी है कि उन्होंने जो कहा था उसके कुछ हिस्सों को ही तोड़-मरोड़ कर प्रचारित किया जा रहा है। वहीं शिंदे ने मामले पर कहा कि शर्मा उस वक्त पुलिस अधिकारी थे और ड्यूटी पर थे किसी पुलिसकर्मी की मदद करना अपराध नहीं है। 100 से ज्यादा एनकाउंटर में शामिल रहे शर्मा को साल 2006 में छोटा राजन गिरोह से जुड़े रामनारायण गुप्ता उर्फ लखनभैया के एनकाउंटर मामले में गिरफ्तार किया गया था। आरोप था कि यह एनकाउंटर फर्जी था।

साढे तीन साल की सजा के बाद शर्मा को 2008 में राज्य सरकार ने पुलिस सेवा से बर्खास्त कर दिया था लेकिन साल 2013 में शर्मा को सत्र न्यायालय ने बरी कर दिया। इसके बाद साल 2017 में उन्हें फिर से पुलिस महकमे में शामिल कर लिया गया। ठाणे हप्ता निरोधी प्रकोष्ठ में तैनात शर्मा ने चुनावों से पहले पुलिस की नौकरी से इस्तीफा देकर शिवसेना का दामन थाम लिया। पार्टी ने उन्हें पालघर सीट से उम्मीदवार बनाया है। 


 

कमेंट करें
7lW05