comScore

पूर्व RAW चीफ बोले- सुरक्षा में चूक के कारण होते हैं पुलवामा जैसे हमले

February 18th, 2019 08:22 IST
पूर्व RAW चीफ बोले- सुरक्षा में चूक के कारण होते हैं पुलवामा जैसे हमले

हाईलाइट

  • RAW के पूर्व चीफ ने कहा है कि आतंकी हमला बिना किसी सुरक्षा चूक के नहीं हो सकता।
  • पूर्व चीफ ने कहा कि इस चूक में एक से अधिक लोग शामिल हैं।
  • पाक द्वारा संरक्षित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय खूफिया एजेंसी RAW के पूर्व चीफ विक्रम सूद ने कहा है कि जम्मू और कश्मीर के पुलवामा में हुआ आतंकी हमला बिना किसी सुरक्षा चूक के नहीं हो सकता। बता दें कि पुलवामा में आत्मघाती कार बम विस्फोट में भारत के 40 सैनिक शहीद हो गए थे। पाक द्वारा संरक्षित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

सूद ने हैदराबाद में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, 'मुझे नहीं पता कि वास्तव में क्या गलती हुई, लेकिन सुरक्षा चूक के बिना इस तरह की घटना नहीं होती। जाहिर सी बात है, इस चूक में एक से अधिक लोग शामिल हैं। इसमें से कोई विस्फोटक लाने वाला व्यक्ति होगा। वहीं किसी ने इसे एक जगह इकट्ठा किया होगा। इसके बाद किसी को कार मिल गई। वहीं किसी ने CRPF वाहनों के आने-जाने की जानकारी दी होगी।'

दरअसल ज्यादतर सुरक्षा के लिए सैनिकों को एयरलिफ्ट किया जाता है। जबकि गुरुवार को 78 वाहन के काफिले को जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर नेविगेट करना पड़ा। इसके बाद एक कार जो कि विस्फोटकों से भरा था, आकर उस काफिले से टकरा गया। सूद इसी चूक के बारे में बात कर रहे थे।

पीएम मोदी ने हमले के लिए पाक को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि आतंकियों को इसके लिए भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। इसके साथ ही उन्होंने पाक से मोस्ट फेवर्ड नेशन का स्टेटस भी हटा लिया था। वहीं पाक से भारत आयात किए जाने वाले सामानों पर 200 प्रतिशत टैक्स ड्यूटी बढ़ा दी गई है। विक्रम सूद से यह पूछे जाने पर कि भारत इसके अलावा और क्या कर सकता है? इसके जवाब में सूद ने कहा कि 'यह कोई मुक्केबाजी मैच नहीं है। जैसा कि हमारे पीएम ने कहा, आप कोई भी प्रतिक्रिया तब देते हैं, जब सबकुछ सुविधानुसार हो। इसके लिए सही समय और अपनी पसंद की जगह होनी चाहिेए और यह पक्का है कि आज या कल ऐसा होगा।'

इससे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ देश के शीर्ष खुफिया अधिकारियों ने दिल्ली में एक मीटिंग की थी। इस मीटिंग में हमले में पाकिस्तान की भागीदारी पर एक डोजियर तैयार किया गया। इसके साथ ही सूत्रों के अनुसार भारत ने संयुक्त राष्ट्र के पी-5 देशों के दूतों से भी मिलना शुरू कर दिया है, ताकि उन्हें आतंकियों को भारत भेजने में पाकिस्तान की भूमिका के बारे में बताया जा सके। P-5 में यूनाइटेड स्टेट्स, यूनाइटेड किंगडम, रूस, फ्रांस और चीन शामिल हैं।

कमेंट करें
0tWGK
कमेंट पढ़े
Rppppp February 18th, 2019 08:23 IST

Sahi kaha, isiliye pahile indian me every month ek state me bomb blast hote the, nd 2014 se desh me ek bhi nahi