comScore

हाईकमान चुनेंगी महाराष्ट्र कांग्रेस विधायक दल का नेता, मिल सकते हैं थोरात, पवार से हुई बात

हाईकमान चुनेंगी महाराष्ट्र कांग्रेस विधायक दल का नेता, मिल सकते हैं थोरात, पवार से हुई बात

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कांग्रेस के नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक सिर्फ पार्टी प्रभारी के भाषण और विधायकों के परिचय तक सीमित रह गया। गुरुवार को कांग्रेस विधायक दल के नेता का चुनाव नहीं हो सका। जल्द ही विधानभवन में केंद्रीय प्रभारी की मौजूदगी में पार्टी विधायकों की बैठक होगी। सूत्रों के अनुसार इस बैठक में विधायक दल नेता चुनने की जिम्मेदारी पार्टी हाईकमान को सौपने का प्रस्ताव पारित किया जाएगा। यानी विधायक दल का नेता पार्टी विधायक नहीं बल्कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी करेंगी। गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस कार्य़ालय तिलक भवन में पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक बुलाई गई थी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बाला साहेब थोरात की अध्यक्षता में हुई बैठक में पार्टी प्रभार मल्लिकार्जुन खडगे भी मौजूद थे। बैठक के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि आज की बैठक विधायक दल नेता चुनने के लिए नहीं बुलाई गई थी। विधानसभा चुनाव के बाद पहली बार पार्टी विधायक प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में जुटे थे।

शिवसेना को समर्थन पर कोई चर्चा नहीं

राज्य में सरकार बनाने के लिए शिवसेना को समर्थन देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि शिवसेना को समर्थन देने को लेकर पार्टी के भीतर कोई चर्चा नहीं हैं। फिलहाल हम ‘वेट एंड वॉच’ की भूमिका में हैं। देवेंद्र फडणवीस भाजपा विधायक दल के नेता चुने गए हैं तो वे सरकार बनाए। हमें विपक्ष में बैठने के लिए जनादेश मिला है। एक सवाल के जवाब में कांग्रेस नेता ने कहा कि शिवसेना को समर्थन देने को लेकर हमारी राकांपा से कोई चर्चा नहीं हुई है।   

विधायक दल नेता के लिए दौड़ में कई शामिल

विधानसभा चुनाव में राकांपा से पिछड़ने के चलते कांग्रेस का विधानसभा में विपक्ष के नेता पद पर दावा नहीं रहा। ऐसे में अब पार्टी के वरिष्ठ नेता को सिर्फ विधायक दल नेता पद से ही संतोष करना पड़ेगा। इस पद के लिए पार्टी के कई विधायक दौड़ में शामिल हैं। मौजूदा विपक्ष के नेता विजय वड्डेटीवार, पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण और अशोक चव्हाण के अलावा नागपुर से विधायक चुने गए पूर्व मंत्री नितिन राऊत और नाना पटोले भी इस पद के लिए दावेदार हैं।  


सोनिया गांधी से मिल सकते हैं बालासाहेब थोरात

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर भाजपा और शिवसेना में चल रही रस्साकशी के बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोरात कांग्रेस हाइकमांड से नई दिल्ली में मुलाकात करने वाले है। जानकारी के अनुसार थोरात शुक्रवार की सुबह नई दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात हो सकती है। थोरात के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण भी मौजूद रह सकते है। माना जा रहा है कि ये नेता कांग्रेस अध्यक्ष को राज्य में सरकार बनाने को लेकर भाजपा-शिवसेना के बीच चल रही सियासी उठापठक से अवगत करायेंगे। साथ ही भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिए शिवसेना को समर्थन देने के प्रस्ताव पर भी सोनिया गांधी से चर्चा करेंगे। इसके पहले प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोरात बयान दे चुके है कि अगर शिवसेना और एनसीपी मिलकर सरकार बनाने के बारे में सोचते है तो वह दिल्ली में आलाकमान से बात करेंगे। उधर, मुबई में शिवसेना नेता संजय राउत और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के बीच मुलाकात होने के बाद इस संभावना को और बल मिल गया है कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच सरकार बनाने को लेकर अंदर खाने चर्चा चल रही है।

शरद पवार से मिले कांग्रेस नेता 

दोनों दलों की खींचतान के बीच गुरुवार को मुंबई में कांग्रेस नेताओं ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार पवार के आवास पर आने वालों में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोराट और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण व पृथ्वीराज चव्हाण शामिल थे। बीते विधानसभा चुनाव में पवार ने ही विपक्षी गठबंधन के चुनाव प्रचार का नेतृत्व किया था। सूत्रों ने कहा कि बैठक वर्तमान राजनीतिक स्थिति के मद्देनजर गठबंधन साझेदारों (राकांपा और कांग्रेस) की रणनीति पर चर्चा करने के लिए थी। हालांकि थोरात ने संवाददाताओं से कहा कि नेताओं ने बेमौसम वर्षा से राज्य के विभिन्न हिस्सों में फसलों को हुए नुकसान पर चर्चा की। समझा जा रहा है कि दोनों दलों के नेताओं ने राज्य की वर्तमान राजनीतिक स्थिति को लेकर चर्चा की। इस बात की चर्चा है कि शिवसेना कांग्रेस-राकांपा के साथ मिलकर सरकार बनाने पर विचार कर सकती है और इसको लेकर कांग्रेस सकारात्मक भी है। हालांकि अभी तक कांग्रेस नेता यहीं कह रहे हैं कि उनका शिवसेना के साथ गठजोड़ नहीं हो सकता।  
 

कमेंट करें
utg73