comScore

मुंबई में चक्रवात तूफान का असर: तेज हवाओं से गिरे पेड़, कल सुबह गुजरात पहुंचेगा तूफान

मुंबई में चक्रवात तूफान का असर: तेज हवाओं से गिरे पेड़, कल सुबह गुजरात पहुंचेगा तूफान

हाईलाइट

  • महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में चक्रवात वायु का दिखाई दिया असर
  • चक्रवात की वजह से उत्तर महाराष्ट्र के तट पर में तेज हवाएं चलेंगी
  • गुजरात में इसकी रफ्तार अधिकतम 135 किमी प्रति घंटा हो सकती है

डिजिटल डेस्क, मुंबई। लक्षद्वीप द्वीप समूह के पास अरब सागर के ऊपर बना चक्रवाती तूफान 'वायु' तेजी से गुजरात के तट की ओर बढ़ रहा है। मौसम संबंधी हालिया रिपोर्ट के अनुसार, चक्रवात 13 जून तक पहुंच सकता है। हालांकि गुजरात पहुंचने से पहले महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में चक्रवात वायु का असर देखने को मिल रहा है। बुधवार सुबह इसका असर मुंबई कोस्ट के आसपास दिखा, जहां तेज हवाएं चलीं और इस दौरान कई पेड़ भी धराशायी हो गए। मुंबई मौसम विभाग के अधिकारी के अनुसार चक्रवात की वजह से उत्तर महाराष्ट्र के तट पर में तेज हवाएं चलेंगी। 

मौसम विभाग की मानें तो जिस रफ्तार से तूफान आगे बढ़ रहा है यह बुधवार देर रात या गुरुवार सुबह चक्रवात वायु गुजरात के तट से टकरा सकता है। इस दौरान इसकी रफ्तार 75 किलोमीटर से लेकर अधिकतम 135 किलोमीटर प्रति घंटा रह सकती है। ‘वायु’ चक्रवात से निपटने के लिए गुजरात प्रशासन हाईअलर्ट पर है। इससे निपटने के लिए NDRF की टीम लोगों की मदद के लिए गुजरात पहुंच चुकी है।  

चक्रवाती तूफान वायु लगातार भयंकर होता जा रहा है और यह गुरुवार सुबह गुजरात के तटीय इलाकों में दस्तक देगा। इस दौरान 140-150 से लेकर 160 किमीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। 13 जून की सुबह यह तूफान पोरबंदर और महुआ के बीच वेरावल तथा दीव क्षेत्र के आसपास समुद्र तट से टकरा सकता है। ताजी रिपोर्ट के मुताबिक इस तूफान की रफ्तार 155 से 170 किमी. प्रति घंटा की रफ्तार तक पहुंच सकती है। इससे गुजरात के तटीय जिलों में भारी वर्षा होने की संभावना है। 

मुख्यमंत्री ने की बैठक
आपको बता दें कि चक्रवात वायु के मद्देनजर गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी ने गांधीनगर में मुख्‍य सचिव, पुलिस महानिदेशक, सेना व आपदा प्रबंधन के अधिकारियों के साथ बैठक कर समु्द्र तटीय जिलों भावनगर, अमरेली, गीर सोमनाथ, जूनागढ,पोरबंदर व जामनगर के लिए राहत एवं आपदा प्रबंधन की तैयारियों का जायजा लिया। रुपाणी ने आगामी 48 घंटे के दौरान चक्रवात के खतरे को देखते हुए सभी जिला कलेकटर, कर्मचारी व जवानों के अवकाश रद्द कर दिए हैं।

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने पूरे राज्य में 13 से 15 जून तक 3 दिवसीय शाला प्रवेशोत्सव (स्कूल उत्सव का स्वागत) रद्द कर दिया है। वहीं जहां चक्रवात का असर देखा जा सकता है उन 10 जिलों के स्कूलों और कॉलेजों में 13 और 14 जून को दो दिन की छुट्टी की घोषणा की है। 

कमेंट करें
poksu