comScore

विपक्ष ने मोदी की वर्धा रैला को बताया सुपर फ्लाप और कसा तंज, खाली कुर्सियों का वीडियो वायरल


डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले पांच सालों से रोजाना जनता को एप्रिल फूल बना रहे हैं, लेकिन वर्धा में हुई रैली से मुंह मोड़कर विदर्भ की जनता ने उन्हें एप्रिल फूल बना दिया। मोदी की वर्धी रैली सुपरफ्लॉप साबित हुई। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस समिति के महासचिव और प्रवक्ता सचिन सावंत ने यह कहते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा सावंत ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की राज्य की पहली रैली के दौरान आधे से ज्यादा मैदान खाली था। इससे जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वर्धा की जनता ने दिखा दिया है कि राज्य में हवा का रुख किस ओर है। उन्होंने कहा कि मोदी के भाषण के बाद समझ में नहीं आ रहा है कि वे सत्ता में हैं या विपक्ष इससे अच्छा उन्हें पांच साल पुरानी रैली का भाषण सुना देना चाहिए था। पत्रकारों से बातचीत में सावंत ने कहा कि मोदी को यह बताना चाहिए कि पिछले पांच सालों में उन्होंने क्या किया। उन्होंने कहा कि मोदी के आश्वासनों और घोषणाओं पर लोगों को भरोसा नहीं रहा। आत्महत्याग्रस्त विदर्भ और मराठवाडा के किसानों की पीठ पर हाथ रखने का पिछले पांच सालों में मोदी को समय नहीं मिला। 

खाली कुर्सियों के चलते चढ़ा मोदी का पारा-मलिक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वर्धा रैली के दौरान खाली कुर्सियों को लेकर राकांपा ने निशाना साधा है। पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि रैली में खाली कुर्सियां देखकर मोदी का पारा चढ़ गया इसीलिए उन्होंने शरद पवार और राकांपा को निशाना बनाया। उन्होंने कहा कि शरद पवार ने किसानों के लिए क्या किया यह सबको पता है मोदी ने पिछले पांच सालों में क्या किया वे इसका जवाब दें। उन्होंने कहा कि भाजपा फसल पैदा करने वाली नहीं बल्कि फसल लूटने वाली पार्टी है इसीलिए पांच सालों में किसानों को न्याय नहीं दे सकी। पांच साल पहले सिंचाई घोटाले के चलते आत्महत्याएं होने का आरोप लगा रहे थे आज भी उसे ही दोहरा रहे हैं। किस मामले में लोगों को दोषी साबित किया गया और परियोजना पूरी की गई। 

पांच हजार की भीड़ जुटा कर दिखाए राकांपा: तावडे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में कम भीड़ होने को लेकर विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे के बयान पर शिक्षा मंत्री विनोद तावडे ने पलटवार किया है। तावडे ने चुनौती दी है कि 44 डिग्री सेल्सियस तापमान में राकांपा अध्यक्ष रैली कर 5 हजार लोगों को इकठ्ठा करके दिखाए। मुंबई में पत्रकारों से बातचीत के दौरान तावडे ने दावा किया कि रैली में करीब एक लाख लोग मौजूद थे इसलिए भीड़ कम होने का दावा सही नहीं है। अशोक चव्हाण पर कटाक्ष करते हुए तावडे ने कहा कि आदर्श जैसा घोटाला करने वाले प्रधानमंत्री को चोर बता रहे हैं। चंद्रपुर उम्मीदवार के मामले में वे खुद बोल चुके हैं कि उनकी कोई नहीं सुनता। चव्हाण ने खुद चुनावी मैदान से भाग कर पत्नी को उतारने की कोशिश की थी। 
 

कमेंट करें
sNSPm