comScore

पाकिस्तान: मौलाना फजलुर रहमान के खिलाफ विद्रोह का मामला दर्ज

पाकिस्तान: मौलाना फजलुर रहमान के खिलाफ विद्रोह का मामला दर्ज

हाईलाइट

  • इमरान के खिलाफ जनता को उकसाने पर मौलाना पर मामला दर्ज
  • विपक्ष की धमकियों और दबाव की रणनीति के समक्ष नहीं झुकेगी : रक्षा मंत्री
  • राष्ट्रीय संस्थानों को अपमानित करने वाले भाषण दुर्भाग्यपूर्ण : रक्षा मंत्री

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फजल (JUIF) के चीफ मौलाना फजलुर रहमान पर भड़काऊ भाषण देने के लिए विद्रोह का मामला दर्ज किया गया है। पाकिस्तान सरकार ने प्रधानमंत्री इमरान खान और राज्य संस्थानों के खिलाफ लोगों को भड़काने के लिए यह मामला दर्ज किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार की वार्ता टीम के सदस्यों के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रक्षा मंत्री परवेज खटक ने शनिवार को कहा कि उन्होंने जनता को भड़काने और इमरान की गिरफ्तारी के लिए जनता को उकसाने पर रहमान के खिलाफ अदालत का रुख करने का फैसला किया है।

बता दें कि सरकार विरोधी आजादी मार्च की अगुवाई कर रहे रहमान ने शुक्रवार को अपने भाषण के अंत में इमरान को दो दिन का अल्टीमेटम देते हुए कहा था कि जनता प्रधानमंत्री को उनके निवास पर रोक सकती है और उन्हें इस्तीफा देने के लिए मजबूर भी कर सकती है। खटक ने कहा कि इस तरह की घोषणा जनता को उकसाने और विद्रोह का काम करने के समान है। खटक ने कहा कि आजादी मार्च को लेकर सरकार बिल्कुल भी चिंतित नहीं है, लेकिन विपक्षी नेताओं द्वारा राष्ट्रीय संस्थानों को अपमानित करने वाले भाषण दुर्भाग्यपूर्ण हैं।

रक्षा मंत्री परवेज खटक ने बताया कि देश के लिए बलिदान देने वाली संस्थाओं के खिलाफ भाषण, देश के साथ दुश्मनी के समान ही होगा। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि पीएम इमरान किसी भी तरह से इस्तीफा नहीं देंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक खटक ने कहा कि सरकार, विपक्ष की धमकियों और दबाव की रणनीति के समक्ष नहीं झुकेगी। उन्होंने बताया कि सरकार, विपक्षी दलों के साथ बातचीत करने के लिए तैयार है। इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि इस्लामाबाद प्रशासन के साथ किए गए समझौते का उल्लंघन होने पर कानून अपना काम करेगा। पाकिस्तान-तहरीक-ए-इंसाफ, सरकार को गिराने के लिए JUIF द्वारा आहूत आजादी मार्च ने 31 अक्टूबर की रात इस्लामाबाद में प्रवेश किया।

कमेंट करें
ecoN6