comScore

दिल्ली एयरपोर्ट पर संदिग्ध बैग में नहीं मिला RDX, रखे थे खिलौने और चॉकलेट

November 02nd, 2019 07:59 IST

हाईलाइट

  • इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर संदिग्ध बैग मिलने से हड़कंप, घटनास्थल पर पहुंचा अफसरों का हुजूम
  • बैग को सीआईएसएफ के सुरक्षाकर्मियों ने डॉग की मदद से टी-3 टर्मिनल पर पकड़ा है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे (आईजीआई एयरपोर्ट) से मिले लावारिस बैग में आरडीएक्स नहीं मिला। जांच में बैग में कपड़े, खिलौने और चॉकलेट मिले हैं। इस लावारिस बैग की वजह से एयरपोर्ट पर हड़कंप मच गया था और RDX होने का शक जताया गया था। इसके बाद एयरपोर्ट की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई थी।

आईजीआई एयरपोर्ट पर मध्य रात्रि (शुक्रवार की रात) के बाद करीब एक बजे के आसपास संदिग्ध बैग मिलने से हड़कंप मच गया था। बैग को सीआईएसएफ के सुरक्षाकर्मियों ने डॉग की मदद से टी-3 टर्मिनल पर पकड़ा था। सूचना मिलते ही मौके पर बम निरोधक दस्ते सहित तमाम सुरक्षा और जांच एजेंसियों के आला अफसरान पहुंच गए थे। 

बैग फोर्सकोर्ट एराइवल एरिया में मिला था। काले रंग के बैग के अंदर आरडीएक्स होने की आशंका जताई जा रही थी। सीआईएएसएफ के एक उच्च पदस्थ सूत्र ने आईएएनएस को बताया था कि बैग को सीआईएसएफ के विशेष-डॉग ने पकड़ा है। इसके बाद इंटरनेशनल प्रोटोकॉल के मद्देनजर बैग को 24 घंटे के लिए कूलेंट बैग (कूलिंग पिट) में रखकर उसकी गहराई से जांच शुरू की गई। कूलेंट बैग किसी भी विस्फोटक को ठंडा करके उसकी ताकत को कम करने का काम करता है।

सीआईएसएफ (केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल) के हवाई अड्डे पर मौजूद एक सूत्र ने आईएएनएस से कहा था, काले रंग का संदिग्ध बैग एराइवल एरिया में जिस पिलर नंबर-4 के पास मिला, उस इलाके को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। बैग पर सबसे पहले नजर सीआईएसएफ के सिपाही वी.के. सिंह की पड़ी थी। बैग में विस्फोटक होने की संभावना से उसके पास कोई नहीं गया। तुरंत पुष्टि के लिए मौके पर डॉग-स्क्वॉड बुलाया गया। विस्फोटक तलाशने के विशेषज्ञ गाइड नाम के डॉग ने भी बैग को संदिग्ध करार दिया, तब मामला उच्चाधिकारियों के संज्ञान में लाया गया।

सीआईएसएफ सूत्रों के ने कहा था, बैग को सूंघने के बाद डॉग से जिस तरह के इशारे मिले थे। सीआईएसएफ प्रवक्ता सहायक महानिरीक्षक हेमेंद्र सिंह ने आईएएनएस को शुक्रवार को बताया था, बैग को एक खास किस्म के कंटेनर में कूलिंग-किट में बंद करके रखा गया है। 24 घंटे बाद ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है। फिलहाल सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं, ताकि बैग के मालिक तक पहुंचने की कोशिशें तेज की जा सकें।

कमेंट करें
hgiO3