मामा का न्याय: जब मंच से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बोले- मैं जनपद पंचायत सीईओ को तत्काल प्रभाव से हटा रहा हूं

October 5th, 2021

डिजिटल डेस्क, सिंगरौली। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इन दिनों प्रदेश में भ्रष्टअधिकारियों के खिलाफ बेहद सख्त नजर आ रहे हैं। सीएम शिवराज सीधे मंच से जनता के लिए न्याय कर रहे हैं। कल यानी सोमवार को सिंगरौली में जनदर्शन यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनहित कार्यों में लापरवाही, गडबड़ी और भ्रष्टाचार को लेकर चितरंगी के जनपद सीईओ को तत्काल प्रभाव से हटा दिया। सीएम शिवराज ने मंच से आम जनता को संबोधित करते हुए उन्हीं के सामने न्याय कर दिया है। सीएम शिवराज ने कहा, मेरे मध्यप्रदेश में जनहित के कार्यों में लापरवाही, गड़बड़ी या भ्रष्टाचार के लिए कोई स्थान नहीं है। मेरे पास शिकायत आई है कि जनपद पंचायत में राशि जो किस्त की डलती है, उसके अलावा भी कुछ मांग की जा रही है। मैं जनपद पंचायत सीईओ को तत्काल प्रभाव से हटा रहा हूं।

सीएम शिवराज सिंह ने कहा, गरीब आदमी भी अपना मकान बना सके, हमें ऐसी व्यवस्था बनानी है। प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को फ्री में बालू दी जायेगी, उनका पैसा नहीं लगना चाहिए। अधिकारी सुनिश्चित कर लें, मैं वहां से नीति बना दूंगा, जिससे योजना के हितग्राहियों को फ्री में बालू मिल सके। मेरे बहनों-भाइयों, विशेषकर जंगलों में रहने वालों, तुम्हारी जिंदगी बदलने का नया अभियान अब शुरू हो रहा है। अगले साल मैं ऐसी नीति बना रहा हूं, जिसमें तेंदूपत्ता, सरकार नीलाम नहीं करेगी; बल्कि वन समिति नीलाम करेगी और नीलामी का पूरा पैसा वन समिति व गरीब भाई-बहनों के पास जायेगा। कन्या विवाह की सहायता राशि न मिलने, वन विभाग में सुरक्षा का काम करने वाले को निर्धारित मजदूरी न प्राप्त होने जैसी शिकायतें मुझे मिली हैं। जो अफसर अच्छा काम करेंगे, उन्हें शाबाशी दूंगा, लेकिन गड़बड़ करने वालों को किसी भी कीमत पर नहीं छोड़ूंगा। 

सीएम के पास सिंगरौली में ऐसी शिकायतों की भरमार थी। वह मंच से सियासी बातें कर रहे थे। लोगों की शिकायत को निपटा रहे थे। उन्होंने कहा कि अभी मेरे पास एक-दो आवेदन और आए हैं। अभी मैं देख रहा था कि एक आवेदन आया है। कन्या विवाह हो गया और उसके लिए फॉर्म भरा गया और पंचायत के ब्लॉक के बाबू ने इसके लिए ₹5000 ले लिए। जांच कराओ भाई, अगर किसी गरीब ने दिया है, तो ऐसे ही नहीं दिया है।

जनदर्शन यात्रा के दौरान एमपी सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कई अधिकारियों पर कार्रवाई की है। कुछ दिन पहले मंच से पन्ना में कलेक्टर को हड़काया था। भोपाल में बड़े अधिकारियों की मीटिंग में शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए अधिकारी पैसा ले रहे हैं। मेरे पास कई शिकायतें आई हैं। कई लोगों पर कार्रवाई हुई है। मैं उन्हें छोड़ूंगा नहीं। सीएम के इस तेवर का असर भी अधिकारियों पर नहीं है। अगर होता तो सिंगरौली में इस तरह की शिकायतों की झड़ी उनके पास नहीं होती।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अब मामा ऐसे नहीं मानेगा, जांच कराकर सस्पेंड करो, इसको पैसा मिल जाना चाहिए और यह आवेदन नहीं आना चाहिए। आप इसकी जांच कराकर देखिए, हर एक चीज देखिए, यह क्यों इस तरह का आवेदन मेरे पास क्यों आ रहा है। उन्होंने कहा कि भैया मैं यह कभी नहीं कहूंगा कि सब कुछ अच्छा चल रहा है, जो अफसर अच्छा काम उन्हें मैं शाबाशी दूंगा। उनको पुरस्कृत करूंगा लेकिन गड़बड़ करने वालों को अब मामा अब नहीं छोड़ने वाला, साफ सुन लें।

खबरें और भी हैं...