मध्य प्रदेश: कांग्रेसी सांसदों ने कहा- ड्रग्स जीवन की जरूरत, आर्यन को फंसाया गया, नरोत्तम मिश्रा बोले- ये देश की पीढ़ी को बर्बाद करने का षड्यंत्र

October 28th, 2021

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने आज (गुरुवार) प्रेस ब्रीफिंग के दौरान आर्यन ड्रग्स केस पर कांग्रेस सांसदों द्वारा दिए गए बयान पर पलटवार करते हुए कहा, कांग्रेस नशे में चूर है और इनके सांसद वकालात करने पर मजबूर हैं। कांग्रेस सांसद KTS तुलसी का कहना है कि ड्रग्स से प्रतिबंध हटा लेना चाहिए। ये देश की पीढ़ी को बर्बाद करने का षड्यंत्र है। इनको अभी समझ नहीं आ रहा है। जबकि नेतृत्व में दिखाई देता है, लेकिन यहां इन सांसदों को दिखाई नहीं दे रहा है। ये ड्रग्स से प्रतिबंध हटाने की बात कर रहे हैं। शाहरुख के बेटे को क्लीन चिट दे रहे हैं। जबकि मामला अभी न्यायलय में है। 

गौरतलब है कि कांग्रेस सांसद KTC तुलसी ने आर्यन केस को लेकर कहा था कि संतुलित मात्रा में ड्रग्स जीवन की जरूरत है। उन्होंने यह भी कहा कि टैक्स देकर शराब, गुटखा और तंबाकू की ड्रग्स के सेवन की अनुमति दी जानी चाहिए। ड्रग्स हर किसी की जिंदगी का हिस्सा होता है और कई मौकों पर यह जिंदगी के दर्द को कम कर देता है। वहीं, कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा, आर्यन को झूठा फंसाया गया है। जनाब NCB व NIA के डायरेक्टर महोदय ₹21,000 करोड़ की पकड़ी गई Heroin केस का क्या हुआ? उस पर गोदी मीडिया क्यों चुप है? आर्यन का क़सूर सिर्फ़ इतना है वह शाहरुख़ का बेटा है। 

विपक्ष द्वारा खाद पर उठाए गए सवालों का जवाब देते हुए डॉ मिश्रा ने कहा, कभी-कभी बारिश होती है तो एक साथ खाद की डिमांड बढ़ती है। यही विपक्ष पहले बिजली को लेकर बात कर रहा था, फिर कोयले की कमी पर बोल रहा था कि चार दिन का कोयला बचा है सरकार सो रही है। 14 दिन तक चार दिन ही बोलते रहे। खाद पर भी यही बोल रहे हैं। मध्य प्रदेश में 3 लाख टन यूरिया कल की तारीख में था। प्रदेश में 1 लाख टन NPK खाद था। 1 लाख मैट्रिक टन DAP खाद था। मैंने कल दिल्ली में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया से इस विषय पर बात की थी। चूंकि उन्हीं के पास ही रसायन और उर्वरक विभाग है। आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खाद की कमी के विषय पर समीक्षा बैठक करेंगे। जल्द ही समस्या का समाधान किया जाएगा। किसान धैर्य रखें और भ्रम फैलाने वालों की बात में ना आएं। 

बता दें कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मैंने प्रदेश में खाद की समस्या को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी को पत्र लिखा था, लेकिन पिछले साल मामू को मेरे लिखे पत्र की प्रति। मामू और उनका कार्यालय पत्रों का जवाब तो छोड़ दीजिए पत्र की पावती भी नहीं भेजते। नाटक नौटंकी से मामू को कहॉ फ़ुरसत है। मध्यप्रदेश में खाद की कालाबाज़ारी हो रही है और मामू की सरकार कालाबाज़ारीयों से हाथ मिला कर किसानों को लूट रही है। किसान मजबूरी में क्या करें?
 

खबरें और भी हैं...