गोवा सियासत: गोवा में 8 कांग्रेस विधायकों का भाजपा में शामिल होना विश्वासघात : दिनेश गुंडू राव

September 14th, 2022

डिजिटल डेस्क, पणजी। कांग्रेस के गोवा प्रभारी दिनेश गुंडू राव ने बुधवार को अपनी पार्टी के आठ विधायकों के भाजपा में शामिल होने को विश्वासघात और बेशर्मी की हद करार दिया। राव ने ट्वीट किया, गोवा के लोगों ने इन विधायकों को वोट दिया, क्योंकि वे कांग्रेस के उम्मीदवार थे। उन्होंने मंदिरों, चर्च और दरगाह के सामने शपथ ली थी कि वे भाजपा में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने हलफनामा दिया था कि वे हमेशा कांग्रेस के साथ रहेंगे और संविधान के नाम पर प्रतिज्ञा की थी। उन्होंने दिगंबर कामत और माइकल लोबो को टैग करते हुए आगे कहा, क्या यह दिगंबर कामत व माइकल लोबो और अन्य लोगों द्वारा विश्वासघात और बेशर्मी की पराकाष्ठा नहीं है?

पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत, माइकल लोबो, दलीला लोबो, केदार नाइक, संकल्प अमोनकर, राजेश फलदेसाई, एलेक्सो सिकेरा और रुडोल्फ फर्नाडीस उन आठ विधायकों में शामिल हैं, जिन्होंने बुधवार को पाला बदल लिया। इन विधायकों ने भाजपा में शामिल होने की पहली कोशिश 10 जुलाई 2022 को की थी। हालांकि वे इसमें सफल नहीं हुए थे। उन्होंने हाल ही में दलबदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई से बचने के लिए फिर से कोशिश की थी।

दिनेश गुंडू राव ने बागियों के 10 जुलाई को दलबदल के पहले प्रयास पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा पर कांग्रेस को विभाजित करने के लिए इसके विधायकों को पैसे देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा था, बड़ी रकम की पेशकश के बावजूद हमारे छह विधायक डटे हुए हैं। मुझे उन पर गर्व है। भाजपा दो तिहाई बहुमत के लिए कांग्रेस में विभाजन की कोशिश कर रही थी, जिसमें कामयाब हो गई। उन्होंने कहा, हमारे कई विधायकों को पार्टी बदलने के लिए बड़ी रकम की पेशकश की गई थी। मैं भाजपा द्वारा उन्हें दी जाने वाली धनराशि से हैरान हूं।

यहां तक कि गोवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष गिरीश चोडनकर ने भी कहा था कि भाजपा के उद्योगपति मित्र, खदान मालिक और कोयला माफिया कांग्रेस विधायकों को दलबदल करने के लिए 30 से 40 करोड़ रुपये की पेशकश कर रहे हैं। कांग्रेस ने माइकल लोबो को विपक्ष के नेता के पद से हटा दिया था और पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत पर भाजपा के साथ मिलकर कांग्रेस को विभाजित करने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया था। ताजा दलबदल के बाद गोवा विधानसभा में कांग्रेस के अब तीन विधायक रह गए हैं।

(आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.