• Dainik Bhaskar Hindi
  • Politics
  • Minister and Mukherjee's meeting is only two years old! Took a house in a posh colony bungalow in a short time, earned crores, invested in shares of many companies, how Arpita's life changed?

पार्थ चटर्जी-अर्पिता मुखर्जी मामला : महज दो साल पुरानी है मंत्री और मुखर्जी की मुलाकात! छोटे से समय में पॉश कॉलोनी में लिया घर, कमाए करोड़ों, कई कंपनियों के शेयर में किया निवेश, कैसे बदली अर्पिता की लाइफ?

July 25th, 2022

डिजिटल डेस्क,कोलकाता।  पश्चिम बंगाल में ईडी की छापेमारी के बाद सुर्खियों में आई फिल्म एक्ट्रेस अर्पिता मुखर्जी को लेकर तमाम कयास लगाए जा रहे हैं कि आखिर फिल्म अभिनेत्री टीमएसी के मंत्री पार्थ चटर्जी के करीब कैसे आईं। मंत्री की करीबी माने जाने वाली अर्पिता मुखर्जी के घर पर ईडी को करीब 20 करोड़ कैश मिले थे। तब से ही अर्पिता मुखर्जी को लेकर मीडिया में तमाम तरह की खबरें सामने आ रही थी लेकिन यह स्पष्ट नहीं हो पाया था कि आखिर अर्पिता कैसे सीएम ममता बनर्जी के खास माने जाने वाले मंत्री के करीब आई और इनकी मुलाकात कब और कैसे हुई। 

महज दो साल पुरानी है मुलाकात

शिक्षक भर्ती घोटालें में गिरफ्तार मंत्री पार्थ चटर्जी और फिल्म अभिनेत्री अर्पिता मुखर्जी के बीच हुई मुलाकात की कोई अधिकारिक जानकारी तो नहीं है लेकिन जानकारी के मुताबिक  दोनों की मुलाकात पहली बार 2019 हुई थी। इसके बाद दोनों के बीच में मुलाकातों का दौर चलता रहा है। अर्पिता मुखर्जी को दुर्गा पूजा समारोह में मंत्री पार्थ चटर्जी और सीएम ममता बनर्जी के साथ मंच पर एकसाथ देखा गया था। बंगाल सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी दक्षिण कोलकाता में लोकप्रिय दुर्गा पूजा समिति नकटला उदयन का संचालन करते हैं। पार्थ चटर्जी इस समिति के अध्यक्ष हैं। अर्पिता मुखर्जी 2019 और 2020 में दुर्गा पूजा समारोह का प्रमुख चेहरा भी रह चुकी हैं। कुछ ही सालों में अर्पिता मुखर्जी मंत्री की करीबी लोगों के लिस्ट में शामिल हो गयी। मंत्री के करीब आने के बाद अर्पिता अपने डायमंड पार्क कॉम्प्लेक्स के पॉश आवास में रहने लगी।  

ईडी की छापेमारी के बाद कयास लगाए जा रहे है कि अर्पिता मुखर्जी  के घर से मिले पैसे शिक्षक भर्ती से जुड़े हो सकते हैं। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि अर्पिता मुखर्जी के तार छह शेल कंपनियों से जुड़े हैं।   

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ईडी की टीम को अर्पिता मुखर्जी के घर से साहा टेक्सटाइल्स और मृगनयनी के कुछ कागजात भी मिले हैं। ईडी की नजर अब अर्पिता मुखर्जी और पार्थ चटर्जी की शेल कंपनियों पर भी है जिनसे वह जुड़े हुए हैं।