comScore

राजनीतिक चंदा: राष्ट्रीय दलों को 2018-19 में मिले 951 करोड़ के दान, महाराष्ट्र अव्वल

राजनीतिक चंदा: राष्ट्रीय दलों को 2018-19 में मिले 951 करोड़ के दान, महाराष्ट्र अव्वल

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में भले ही चहुंओर आर्थिक मंदी के हालात हैं, परंतु इस मंदी के दौर में भी देश की राष्ट्रीय पार्टियों को दिल खोलकर चंदा मिल रहा है। इन दलों को पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष कई गुना ज्यादा दान मिले हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2018-19 के दौरान देश के सात राष्ट्रीय दलों को 20 हजार से अधिक के चंदे के रूप में कुल 951.66 करोड़ मिले हैं। इसमें भाजपा 742.15 करोड़ का चंदा पाकर अन्य दलों से काफी आगे है।

बसपा को नहीं मिला 20 हजार से ज्यादा का चंदा
एडीआर की रिपोर्ट की मानें तो 20 हजार से अधिक का दान प्राप्त करने के मामले में भाजपा का कोई जवाब नहीं है। भगवा पार्टी 951.66 करोड़ का दान लेकर सबसे आगे है तो 148.58 करोड़ चंदा लेकर कांग्रेस दूसरे नंबर पर है। भाजपा को मिले भारी भरकम दान का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि इसे मिला कुल दान बाकी 5 राष्ट्रीय दलों के कुल दान से 3 गुना से भी अधिक है। धनराशि के हिसाब से भाजपा के दान में वर्ष 2017-18 के मुकाबले वर्ष 2018-19 में 305.11 करोड़ (70 प्रतिशत) की बढ़ोत्तरी हुई है। भाजपा को वर्ष 2017-18 के दौरान 437.04 करोड़ दान घोषित किया था जो वर्ष 2018-19 में बढ़कर 742.15 करोड़ हो गई है। इस दौरान कांग्रेस के दान में 457 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। वर्ष 2017-18 के दाैरान कांग्रेस को 26.65 करोड़ दान के रूप में मिलाा था तो वर्ष 2018-19 में यह राशि बढ़कर 148.58 करोड़ हो गई है। दूसरे राष्ट्रीय दलों की बात करें तो वर्ष 2018-19 में तृणमूल कांग्रेस को 44.26 करोड़, राकांपा को 12.05 करोड़, माकपा को 3.025 करोड़ और भाकपा को 1.59 करोड़ दानस्वरूप मिले हैं। बसपा ने हमेशा की तरह इस वित्तीय वर्ष में भी यही कहा है कि उसे 20 हजार से ज्यादा के दान नहीं मिले हैं।

चंदा देने में महाराष्ट्र है सबसे आगे 
एडीआर के मुताबिक वर्ष 2018-19 के दौरान दान देने वाले राज्यों को देखें तो इस मामले में महाराष्ट्र सबसे बड़ा दानदाता प्रदेश बनकर उभरा है। इस वित्तीय वर्ष में राष्ट्रीय दलों को महाराष्ट्र से सबसे ज्यादा 548.22 करोड़ के दान मिले हैं। राष्ट्रीय दलों को 141.42 करोड़ चंदा देकर दिल्ली दूसरे नंबर पर है तो गुजरात इन दलों को 55.31 करोड़ के दान देकर तीसरे नंबर पर है। 

प्रोग्रेसिव इलेक्टोराल ट्रस्ट बना सबसे बड़ा दानदाता
सियासी दलों को दान देने में प्रोग्रेसिव इलेक्टोराल ट्रस्ट काफी उदार रहा है। यह ट्रस्ट तीन राष्ट्रीय दलों के शीर्ष दाे दानदाताओं में से एक है। प्रोग्रेसिव इलेक्टोराल ट्रस्ट ने भाजपा, कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस को कुल 455.15 करोड़ रूपये दान दिए हैं। इसने भाजपा को 356.53 करोड़ दिए हैं जो पार्टी को प्राप्त कुल दान का 48.04 प्रतिशत है। ट्रस्ट ने कांग्रेस को 55.62 करोड़ तो तृणमूल कांग्रेस को 42.98 करोड़ बतौर दान दिए हैं। मतलब यह कि तृणमूल कांग्रेस को मिले कुल दान मंे इस ट्रस्ट की भागीदारी 97.12 प्रतिशत है।

कमेंट करें
i06mk