गहलोत की नई टीम: 11 कैबिनेट मंत्री , 4 राज्‍यमंत्री बने अशोक गहलोत कैबिनेट का हिस्‍सा

November 21st, 2021

डिजिटल डेस्क, राजस्थान। गहलोत के नए मंत्रिमंडल के मंत्रियों का शपथ ग्रहण शुरू हो गया है। बता दें कि इस मंत्रिमंडल में कुल 15 विधायक है जिनमें 11 कैबिनेट मंत्री के रूप में और 4 राज्यमंत्री को तौर पर शपथ लेंगे। राज्यपाल कलराज मिश्र मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिला रहे हैं। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशेाक गहलोत, सचिन पायलट, गोविंद डोटासरा समेत तमाम वरिष्ठ कांग्रेस नेता मौजूद हैं। मंत्रियों के शपथग्रहण के दौरान उनके समर्थकों की नारेबाजी भी जारी है।

आपको बता दें कि सबसे पहले हेमाराम चौधरी को कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ दिलाई गई। शपथ ग्रहण करने के बाद वह बाकी औपचारिकताएं पूरी कर रहे हैं। हेमाराम भी पूर्व में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। चौधरी छह बार विधायक रह चुके हैं। वह बाड़मेर की गुडामालानी सीट से विधायक हैं और सचिन पायलट खेमे के हैं। 

दूसरे नंबर पर शपथ लेने पहुंचे हैं महेन्द्रजीत सिंह मालवीया। मालवीया भी कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ ले रहे हैं। मालवीया तीन बार के विधायक हैं और पूर्व में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। मालवीया पिछली कांग्रेस सरकार के दौरान भी कैबिनेट मंत्री थे। मालवीया को पार्टी का बड़ा आदिवासी चेहरा माना जाता है।

रामलाल जाट ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली है। उनके शपथग्रहण के दौरान समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की। रामलाल जाट भीलवाड़ा के कांग्रेस के बड़े नेताओं में है। वह चौथी बार विधायक चुने गए हैं हैं। रामलाल गहलोत के पिछले कार्यकाल में वन और खान मंत्री रहे थे। सीएम गहलोत के करीबी माने जाते हैं।

विश्वेंद्र सिंह कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ले रहे हैं। उनके शपथग्रहण के दौरान भी समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की। बता दें कि विश्वेंद्र सिंह फिलहाल भरतपुर की डीग-कुम्हेर सीट से एमएलए हैं। तीन बार विधायक चुने जा चुके हैं। पहले भी कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सियासी लड़ाई के दौरान खुलकर पायलट का साथ दिया था। 

भजन लाल जाटव को कैबिनेट मंत्री पद की शपथ दिलाई जा रही है। भजन लाल जाटव गहलोत सरकार के तीसरे मंत्री हैं जिनका राज्यमंत्री से कैबिनेट मंत्री में प्रमोशन हो रहा है। फिलहाल भजन लाल जाटव अभी गृह रक्षा राज्य मंत्री थे। वह भरतपुर जिले की वैर विधानसभा सीट से विधायक हैं। 

ममता भूपेश ने भी कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली। उनका प्रमोशन हो रहा है। अभी तक ममता गहलोत सरकार में बतौर महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री शामिल थीं। वह दौसा जिले की सिकराय विधानसभा सीट से एमएलए हैं।

डॉ. महेश जोशी ने भी बतौर मंत्री शपथ ली। महेश जोशी दो बार के एमएलए हैं और पूर्व में लोकसभा सांसद रह चुके हैं जोशी। वह फिलहाल जयपुर की हवामहल सीट से विधायक हैं और मुख्य सचेतक की भूमिका में हैं। उनका बतौर कैबिनेट मंत्री प्रमोशन हो रहा है। 

रमेश मीणा ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली। वह पहले भी कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। वह करौली के सपोटरा से तीन बार के विधायक हैं। रमेश मीणा को भी सियासी संकट के दौरान मंत्री पद से हटना पड़ा था। वह भी पायलट खेमे से सरकार में शामिल होंगे।

टीकाराम जूली को बतौर कैबिनेट मंत्री शपथ दिलाई जा रही है। उनका भी प्रमोशन हुआ है। अभी वह गहलोत सरकार में श्रम राज्य मंत्री थे। टीकाराम जूली अलवर ग्रामीण सीट से विधायक हैं। इससे पहले कांग्रेस विधायक जौहरी लाल मीणा ने टीकाराम पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। 
गोविंद राम मेघवाल कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ले रहे हैं। गोविंद राम मेघवाल फिलहाल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष हैं। वह बीकानेर के खाजूवाला से दो बार के विधायक हैं। यह भी दिलचस्प है कि गोविंद मेघवाल इससे पहले भाजपा में थे। 

शकुंतला रावत ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। शकुंतला रावत अलवर के बानसूर विधानसभा सीट से दो बार की विधायक हैं। वह महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष राष्ट्रीय महासचिव रह चुकी हैं। महिला चेहरे के तौर पर शकुंतला को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है।

बृजेंद्र सिंह ओला ने राज्यमंत्री के रूप में शपथ ली। बृजेंद्र सिंह तीन बार के विधायक हैं। वह पूर्व में मंत्री भी रह चुके हैं। ओला पायलट खेमे से मंत्रिमंडल में शामिल हो रहे हैं। वह कद्दावर नेता रहे स्वर्गीय शीशराम ओला के बेटे हैं।

मुरारी लाल मीणा ने भी राज्यमंत्री के तौर पर पद और गोपनीयता की शपथ ली। मुरारी लाल मीणा भी पायलट खेमे से मंत्री के तौर पर शामिल हो रहे हैं। मीणा इससे पहले भी मंत्री रह चुके हैं और वह पूर्व में भी मंत्री रह चुके हैं। 

अब राजेंद्र सिंह गुढ़ा का नाम पुकारा गया है शपथ ग्रहण के लिए। वह भी राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ले रहे हैं। जब अशोक गहलोत की सरकार खतरे में थी तब उन्होंने गहलोत सरकार की मदद की थी। गुढ़ा बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े और जीते। हालांकि बाद में पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे। 
 

जाहिदा खान 15 नए मंत्रियों में तीसरा महिला नाम हैं। जाहिदा ने अंग्रेजी में शपथ ली। जाहिदा भरतपुर की कामा विधानसभा सीट से विधायक हैं। इससे पहले वह संसदीय सचिव हर चुकी हैं। जाहिदा यहां के बड़े नेता रहे तैयब हुसैन की बेटी हैं।

 
फोटो क्रेडिट-  एएनआई