बिहार उपचुनाव: बिना कांग्रेस समर्थन के तेजस्वी सरकार नहीं बना सकते

October 10th, 2021

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार राजनीति में कांग्रेस और आरजेडी महागठबंधन में उठापटक जारी है। दोनों पार्टियों में इतना विवाद बढ़ गया है कि अब बातें बयानबाजी में आ पहुंची है। आपको बता दें कि रविवार को कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास ने आरजेडी को निशानें पर लेकर कहा कि बिना कांग्रेस के 19 विधायको के समर्थन के तेजस्वी यादव बिहार में सरकार नहीं बना सकते है। गौरतलब है कि बिहार में 30 अक्टूबर को  दो सीटों पर उपचुनाव होने हैं। लेकिन अब उपचुनाव के लिए महागठबंधन में टूट पड़ चुकी है। दोनों ही सीट पर कांग्रेस और आरजेडी ने एक दूसरे के खिलाफ उम्मीदवार खड़ा कर दिया है। कांग्रेस पहले चाहती थी कि कुशेश्वर स्थान सीट उसे मिले क्योंकि कांग्रेस का कहना था कि विधानसभा चुनाव में इस सीट से पार्टी का उम्मीदवार दूसरे स्थान पर रहा था। ये खींचतान तब देखा जा रहा है,जब दोनों पार्टियां सामान्य विधानसभा चुनाव में महागठबंधन कर उतरी थी। 

RJD को गठबंधन धर्म निभाना चाहिए

बता दें कि कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण ने कहा कि आरजेडी को यह बात समझनी चाहिए कि 19 विधायकों का समर्थन कोई मामूली बात नहीं होती। इनकी जरूरत आरजेडी को पडे़गी बिना इनके सरकार बनाना मुश्किल है। आरजेडी को गठबंधन धर्म निभाना चाहिए, अगर ऐसा नहीं होता है तो तेजस्वी को सबसे बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा। उन्होंने ये भी कहा कि अगर कांग्रेस मजबूत होगी तो आरजेडी सरकार बनाने के और करीब पहुंचेगी। इसलिए आरजेडी को कांग्रेस का सम्मान करना चाहिए। गौरतलब है बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्त चरण दास ने ये भी स्पष्ट कर दिया कि कुशेश्वर स्थान और तारापुर विधानसभा सीट पर कांग्रेस जीत के लिए मैदान में उतरी है। विधानसभा उपचुनाव में इन दोनों सीटों पर कोई दोस्तांना लड़ाई नहीं हो रही है। अब आरजेडी और कांग्रेस दोनों आमने सामने दिखेंगे।