यूपी विधानसभा चुनाव 2022: यूपी सरकार का दावा, बदली पूर्वांचल की तस्वीर

November 29th, 2021

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार का दावा है कि पिछले साढ़े चार वर्षों में पूर्वांचल की तस्वीर बदल कर रख दी है। एक ओर जहां पिछली सरकारों में पूर्वांचल के जिलों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया था, वहीं जबसे प्रदेश में योगी सरकार आई, पूर्वांचल विकास के पथ पर लगातार आगे बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य, रोजगार हो या सड़कों का निर्माण, हर क्षेत्र में पूर्वांचल के जिले निरंतर प्रगति की ओर अग्रसर हैं। सरकार की ओर से मिली जानकारी के अनुसार पूर्वांचल को प्रदेश और देश के दूसरे हिस्सों से जोड़ने के लिए के लिए लगातार काम किया है। सड़क हो या हवाई यातायात पिछले साढ़े चार सालों में पूर्वांचल की देश और प्रदेश के अन्य हिस्सों से दूरी कम हुई है।

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का शिलान्यास और उद्घाटन दोनों ही योगी सरकार के कार्यकाल में हुआ। 341 किमी लम्बे एक्सप्रेस वे के निर्माण से प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सुलतानपुर, अम्बेडकर नगर अमेठी और अयोध्या के साथ ही आर्थिक रूप से कम विकसित पूर्वांचल के आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर जैसे जिले भी जुड़ गए हैं। साथ ही ये जिले आगरा और यमुना एक्सप्रेस वे के माध्यम से देश की राजधानी से सीधे जुड़ गए हैं। वहीं गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे भी पूर्वांचल एक्सप्रेस वे जुड़ेगा। इससे अम्बेडकरनगर के साथ ही गोरखपुर, संतकबीरनगर और आजमगढ़ के लोगों को लाभ मिलेगा।

योगी सरकार ने पूर्वांचल में हवाई यातायात को भी सुगम बनाया है। कुशीनगर में अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की शुरूआत होने से यह क्षेत्र देश के अलावा विदेश से भी जुड़ गया है। देश और प्रदेश के दूसरे हिस्सों से बेहतर कनेक्टिविटी के कारण पूर्वांचल में रोजगार के अवसर बढ़े हैं, साथ ही व्यापार करना भी सुगम हुआ है। अब व्यापारी अपने सामान को कम समय में देश व प्रदेश के दूसरे हिस्सों भेज पा रहे हैं। स्वास्थ्य सुविधाओं के लिहाज से भी पूर्वांचल में पिछले साढ़े चार सालों में अभूतपूर्व काम हुआ है। पहले जहां हर साल जापानी इंसेफ्लाइटिस से बच्चों की मौतें होती थीं, विषाणुजनित रोग हर साल लोगों के लिए काल बनकर आते थे। वहीं योगी सरकार के आने के बाद बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं से इन पर रोक लगी। गोरखपुर में एम्स की स्थापना से पूर्वांचल के लोगों को चिकित्सकीय सुविधा अपने क्षेत्र में ही उपलब्ध हो रही है। साथ ही देवरिया, गाजीपुर, प्रतापगढ़, जौनपुर और सिद्धार्थनगर में भी मेडिकल कालेज का लोकार्पण हो चुका है।

प्रदेश सरकार ने जिले की हुनरकारी और पारंपरिक उद्योगों को आगे बढ़ाने के लिए ओडीओपी योजना शुरू की है, जिसका लाभ पूर्वांचल के जनपदों को भी खूब मिल रहा है। भदोही का कालीन, वाराणसी की साड़ी, चंदौली का काला चावल या गोरखपुर का टेराकोटा उद्योग हो, सभी इस योजना के तहत खूब प्रगति कर रहे हैं। सरकार ने किसानों का विशेष ख्याल रखा है। बाढ़ और बारिश से प्रभावित किसानों को राहत देने के लिए फसलों का मुआवजा दिया जा रहा है। अभी हाल में बाढ़ और बारिश के कारण किसानों की फसलें बर्बाद हो गई थीं। योगी सरकार किसानों के लिए अबतक 415 करोड़ रुपये जारी कर चुकी है। इसका लाभ पूर्वांचल के किसानों को मिला है।

(आईएएनएस)