उत्तराखंड - गोवा विधानसभा चुनाव 2022 लाइव अपडेट: उत्तराखंड में मतदान के लिए बुजुर्गों में दिखा उत्साह, कंडी में बैठकर वोटिंग करने पहुंची 102 साल की महिला

February 14th, 2022

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। गोवा और उत्तराखंड में भी चुनावी जंग जारी है। इन दोनों ही प्रदेशों में एक ही चरण में मतदान होना है।

  • 102 साल की बुजुर्ग महिला ने दिखाया मतदान के लिए उत्साह। भैंसकोटी गांव की 102 साल की बुजुर्ग महिला प्रेमावती सकलानी पैदल चलने में असमर्थ हैं। ऐसे में प्रेमावती सकलानी कंडी में बैठकर मतदान के लिए पहुंची। सकलानी के बेटे के मुताबिक वो चाहतीं तो बैलेट मतपत्र का उपयोग भी कर सकती थीं। लेकिन प्रेमावती ने चुनाव केंद्र जाकर ही वोटिंग करने का फैसला लिया।
  • भीमताल विधानसभा में जोन तीन ओखलकांडा में स्थिति एक पोलिंक बूथ पर चुनाव ड्यूटी में तैनात पीओ-3 नवीन चंद्र जोशी को अचानक दिल का दौरा पड़ा। उन्हें लेने के लिए 108 रवाना हो गई है। लेकिन तकरीबन चार किमी का सफर उन्हें डोली से तय करना होगा। क्योंकि, पोलिंग बूथ तक जाने के लिए सिर्फ पैदल मार्ग ही मौजूद है।
  • मसूरी विधानसभा सीट पर दोपहर एक बजे तक 34 फीसदी मतदान दर्ज हुआ। उत्तरकाशी की जनपद  के पोलिंग बूथ पर मतदान का प्रतिशत 40.12 फीसदी रहा। देहरादून में दोपहर एक बजे तक 34.94 परसेंट मतदान दर्ज हुआ।
  • उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी की  पत्नी मतदान के लिए वोटिंग सेंटर पहुंची थीं। लेकिन पुलिस ने उन्हें बाहर ही रोक दिया। दरअसल धामी की पत्नी कांग्रेस का सिंबल हाथ में लेकर पहुंची थी। जिसकी वजह से पुलिस को ये कदम उठना पड़ा।
  • रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल ने उत्तरकाशी में मतदान किया। कोठियाल आम आदमी पार्टी का सीएम पद का चेहरा भी हैं।

 

  मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने विधानसभा चुनाव में किया मतदान

 

मुख्यमंत्री प्रमोद सांवत ने कहा कि अबकी बार फिर बीजेपी की सरकार बन रही है। 

गोवा विधानसभा चुनाव की सभी 40  सीटों पर वोटिंग हो रही है। 301 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। मतदान  सोमवार को सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक जारी रहेगा। इस बार के चुनाव में बड़ा रोचक मुकाबला देखने को मिल रहा है।   इस बार चुनाव में बीजेपी कांग्रेस तृणमूल कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच बहुकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है।  आपको बता दें इससे पहले कांग्रेस और भाजपा प्रमुख खिलाड़ी के रूप में नजर आते थे, वहीं इस बार गोवा फारवर्ड पार्टी (जीएफपी) और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) जैसी स्थानीय पार्टियों भी अच्छी उपस्थिति मौजूद है। 

 सत्तारूढ़ भाजपा जीत की हैट्रिक बनाने की कोशिश कर रही है। पार्टी 2012 से तटीय राज्य में सत्ता में है। मैदान में मुख्य दलों में सत्तारूढ़ भाजपा, कांग्रेस, आप, तृणमूल कांग्रेस, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी), राकांपा और क्रांतिकारी गोवा (आरजीपी) शामिल हैं। भाजपा पहली बार राज्य की सभी 40 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, जबकि कांग्रेस ने 37 उम्मीदवार उतारे हैं। आप, तृणमूल, एमजीपी ने क्रमश: 39, 26, 13 उम्मीदवार उतारे हैं। भाजपा और आप अपने दम पर चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि कांग्रेस ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी के साथ गठबंधन किया है। इसी तरह, एमजीपी टीएमसी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है।

1600 मतदान केंद्रों पर हाे रहे  मतदान में 11,56,464 मतदाता मतदान करने के पात्र हैं। मुख्य चुनाव अधिकारी कुणाल के अनुसार, दिन भर चलने वाले मतदान के दौरान कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए गोवा में 20,000 सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है।

हालांकि इस बार के चुनावी घमासान में आप और तृणमूल कांग्रेस अपने पैर जमाने की कोशिश में लगी है, वहीं दूसरी ओर शिवसेना-एनसीपी गठबंधन कड़ी मेहनत करती नजर आ रही है, तो इस साल का गोवा विघानसभा चुनाव खुद में दिलचस्प होने का वादा करता दिखाई दे रहा है।

गोवा में प्रमुख उम्मीदवारों के तौर पर भाजपा से मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, विपक्ष कांग्रेस के नेता दिगंबर कामत, टीएमसी से पूर्व सीएम रह चुके चर्चिल अलेमाओ, भाजपा के रवि नाइक, निर्दलीय के लक्ष्मीकांत पारसेकर, पूर्व डिप्टी सीएम विजय सरदेसाई शामिल हैं। वहीं दिवंगत सीएम मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल पर्रिकर का मुकाबला अमित पालेकर से है।

पिछले विधानसभा चुनाव के बाद से कई विधायकों को अपनी निष्ठा बदलते देखा गया है, ठीक  इस बार भी चुनाव से पहले दौड़ में कई राजनेताओं ने आखिरी समय पर पार्टियां बदल लीं हैं। आपको बता दें कि, 2017 में, कांग्रेस ने 17 सीटें जीती थी, जबकि बीजेपी को 13 सीटें मिला थीं। इसके बाद बीजेपी ने सरकार बनाने के लिए कुछ क्षेत्रीय संगठनों और निर्दलीय उम्मीदवारों के साथ गठबंधन किया था और अपनी सरकार बनाई थी।