comScore

WB Assembly Election 2021: सातवें चरण के लिए सुबह 7 बजे से वोटिंग, 36 सीटों पर कुल 268 उम्मीदवार आजमा रहे किस्मत

WB Assembly Election 2021: सातवें चरण के लिए सुबह 7 बजे से वोटिंग, 36 सीटों पर कुल 268 उम्मीदवार आजमा रहे किस्मत

डिजिटल डेस्क, कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के सातवें चरण के लिए आज सुबह 7 बजे से वोटिंग की जा रही है। इस चरण में 36 सीटों पर कुल 268 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। जिन 36 सीटों पर वोटिंग हो रही है, वे 5 जिलों में हैं। इनमें दक्षिण दिनापुर और मालदा जिले की 6-6, मुर्शिदाबाद की 11, कोलकाता की 4 और बर्दवान की 9 विधानसभा सीटें शामिल हैं। आठवें और आखिरी चरण में 35 विधानसभा सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान होना है। नतीजे 2 मई को आएंगे। वोटिंग से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके लोगों से सातवें चरण में वोटिंग और कोरोना वायरस से जुड़े सभी प्रोटोकॉल का पालन करने का आग्रह किया।

मतदान के पहले तीन घंटों में कुछ छोटी घटनाएं सामने आईं, लेकिन कुल मिलाकर मतदान प्रक्रिया शांतिपूर्ण रही। पहली घटना सुबह 9.50 बजे दक्षिण कोलकाता में राशबिहारी निर्वाचन क्षेत्र में दर्ज की गई, जहां तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार देबाशीष कुमार ने आरोप लगाया कि उन्हें केंद्रीय बलों द्वारा बूथ में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई थी। रानीनगर के भाजपा प्रत्याशी मसुहारा खातून ने सुबह 10.03 बजे टीएमसी कार्यकतार्ओं द्वारा उनकी कार पर हमला किया। दोनों मामलों में प्रशासन ने तुरंत प्रतिक्रिया दी और स्थिति को नियंत्रण में लिया।

इन निर्वाचन क्षेत्रों में सेवा मतदाताओं सहित कुल मतदाताओं की संख्या 81,96,242 है, जिनमें से 42,00,447 पुरुष मतदाता और 39,88,239 महिला मतदाता हैं। मतदान केंद्रों की कुल संख्या 11,376 है जिसमें 8,634 मुख्य और 2,742 सहायक बूथ शामिल हैं। 80 प्लस मतदाताओं की संख्या 1,01,069 है जबकि 50,919 पीडब्ल्यूडी (विकलांग व्यक्ति) मतदाता हैं। सेवा मतदाताओं की कुल संख्या 7,335 है, तीसरे लिंग मतदाता 221 हैं जबकि विदेशी मतदाता 33 हैं।

हालाकि चुनाव के लिए मुख्य रूप से 36 विधानसभा क्षेत्र निर्धारित किए गए थे, लेकिन मुर्शिदाबाद के शमशेरगंज और जांगीपुर विधानसभा क्षेत्र में संयुक्त मोर्चा के उम्मीदवारों की मौत के बाद इन दो सीटों पर मतदान टाल दिया गया है। इन दो सीटों पर अब 16 मई को मतदान कराए जाएंगे।

चुनाव आयोग ने 7 वें चरण के मतदान के लिए 26 सामान्य पर्यवेक्षकों, 9 व्यय पर्यवेक्षकों और 6 पुलिस पर्यवेक्षकों को तैनात किया है। 50 फीसदी बूथों में वेबकास्टिंग की सुविधा होगी और 20 फीसदी बूथों में माइक्रो ऑब्जर्वर तैनात किए जाएंगे।

कुल 11,376 बूथों में से 5,028 को अति संवेदनशील माना जाता है। चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार, 1,680 संवेदनशील बूथों वाले मुर्शिदाबाद में सबसे ज्यादा संवेदनशील बूथ हैं, इसके बाद वेस्ट बर्दवान में 1,428 संवेदनशील बूथ हैं। इसके अलावा मालदा और दक्षिण दिनाजपुर में 1,120 और 420 संवेदनशील बूथ हैं। कोलकाता के चार निर्वाचन क्षेत्रों में 380 संवेदनशील बूथ हैं।

आयोग ने सीमावर्ती जिलों मालदा, दक्षिण दिनाजपुर और मुर्शिदाबाद में अधिक एकाग्रता के साथ विधानसभा चुनावों के सातवें चरण के लिए केंद्रीय बलों की 653 कंपनियों को तैनात किया है। मुर्शिदाबाद में सबसे ज्यादा 204 कंपनियां होंगी, मालदा में 122 कंपनियां होंगी, जबकि दक्षिण दिनाजपुर में 110 कंपनियां होंगी। दो गैर-सीमावर्ती जिलों पश्चिम बर्दवान में 154 कंपनियां होंगी जबकि दक्षिण कोलकाता में 63 कंपनियां होंगी।

कमेंट करें
7XWhP