दैनिक भास्कर हिंदी: ऑस्ट्रेलिया के 'आसान' लक्ष्य को इंडिया ने कैसे बनाया नामुमकिन ?

September 22nd, 2017

डिजिटल डेस्क, कोलकाता। इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच गुरुवार को वनडे सीरीज का दूसरा मुकाबला कोलकाता के ईडन गार्डन में खेला गया। दूसरे वनडे में भी इंडियन बॉलर्स के सामने कंगारू बल्लेबाज नहीं टिक पाए और इंडिया ने ये मैच 50 रन से जीत लिया। इससे पहले चेन्नई वनडे में भी 26 रन से जीतकर टीम इंडिया 5 वनडे की सीरीज में 2-0 से आगे है। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने अच्छी बॉलिंग की, लेकिन उनके बैट्समैन कुछ कमाल नहीं दिखा सके। दूसरे वनडे में अच्छी शुरुआत मिलने के बाद भी टीम इंडिया कोई बड़ा स्कोर खड़ा नहीं कर पाई और 50 ओवर में 252 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। जून 2015 के बाद से ये पहला मौका था, जब टीम इंडिया ऑलआउट हो गई। जवाब में उतरी ऑस्ट्रेलिया टीम ने शुरु में ही 2 विकेट खो दिए, हालांकि बाद में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने पारी को संभाला और मैच को ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में बनाया। लेकिन कप्तान स्मिथ (59) के आउट होने के बाद ऑस्ट्रेलिया की तरफ से कोई भी बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल सका। टीम की तरफ से मार्क्स स्टॉयनिस (62*) ने अच्छी पारी खेली, लेकिन टीम को जीत दिलाने में उनका साथ कोई नहीं दे पाया और ऑस्ट्रेलिया दूसरे मुकाबले में 42.1 ओवर में 202 रन बनाकर ढेर हो गई। दूसरे वनडे में भी टीम इंडिया की तरफ से बैटिंग और बॉलिंग शानदार रही, जिसकी बदौलत वो ये मैच जीतने में कामयाब रही। आइए जानते है, दूसरे वनडे में टीम इंडिया के हीरो कौन रहे? 

1. विराट कोहली: 

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली चेन्नई वनडे में '0' पर आउट हो गए थे, लेकिन दूसरे मैच में आते ही कोहली संभलकर खेले और टीम को आगे लेते चले गए। कोहली ने दूसरे वनडे में 107 बॉलों का सामना करके 92 रनों की पारी खेली, जिसमें 8 चौके शामिल हैं। इस मैच में कोहली ने अपने करियर की 45वीं हाफ सेंचुरी लगाई, हालांकि वो अपनी सेंचुरी पूरी करने से सिर्फ 8 रन से चूक गए। सिर्फ 19 रन पर पहला विकेट गिर जाने के बाद कैप्टन कोहली जब बैटिंग करने आए तो वो काफी संभलकर खेले और अजिंक्य रहाणे के साथ मिलकर 102 रनों की पार्टनरशिप की। इसके बाद कोहली ने जाधव के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 55 रन जोड़े। कोहली के वनडे करियर में ये 6वीं बार हुआ, जब वो नर्वस नाइंटीज़ का शिकार हुए। 

2. अजिंक्य रहाणे: 

इंडियन टीम के फॉर्मर वाइस कैप्टन अजिंक्य रहाणे भी चेन्नई वनडे में कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए थे और सिर्फ 5 रन बनाकर आउट हो गए थे। लेकिन दूसरे वनडे में उन्होंने भी संभली हुई पारी खेली और दूसरे विकेट के लिए कोहली के साथ मिलकर 102 रन जोड़े। कोहली के साथ-साथ रहाणे ने भी अपनी हाफ सेंचुरी पूरी की और 64 बॉलों पर 55 रन बनाए। ये रहाणे के करियर की 20वीं हाफ सेंचुरी थी। हालांकि रहाणे हाफ सेंचुरी लगाने के थोड़े ही देर बाद रन आउट हो गए। लेकिन तब भी रहाणे ने कैप्टन कोहली के साथ मिलकर टीम को अच्छी शुरुआत दिलाई। 

3. भुवनेश्वर कुमार: 

भुवनेश्वर कुमार के तो क्या कहने? वो पिछले कुछ मैचों से इतना शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं, कि अब मैच जीतने में भुवी का कंट्रीब्यूशन तो रहता ही है। दूसरे वनडे में भुवी ने 6.1 ओवर ही किए और इस दौरान उन्होंने सिर्फ 9 रन दिए और साथ ही 3 विकेट झटके। टीम इंडिया जीत से जब बस एक विकेट दूर थी, तो भुवनेश्वर कुमार ने ही केन रिचर्डसन को LBW करके टीम को जीत दिलाई। इसके अलावा शुरुआत में ही भुवनेश्वर ने हिल्टन कार्टराइट और डेविड वॉर्नर को आउट करके ऑस्ट्रेलिया टीम की को कमजोर कर दिया। 

4. यजुवेंद्र चहल: 

यजुवेंद्र चहल दिखने में तो बहुत छोटे से हैं, लेकिन टीम की जीत में उनका बहुत बड़ा रोल है। चहल ने इस मैच में भी शानदार बॉलिंग की और सबसे खास बात ये रही कि इस मैच में भी चहल ने ग्लेन मैक्सवेल को ही आउट किया, जो टीम इंडिया के लिए घातक साबित हो सकते थे। दूसरे वनडे में चहल ने 10 ओवर किए, जिसमें उन्होंने 34 रन देकर 2 विकेट अपने नाम किए। चहल ने इस मैच में ट्रेविस हेड को भी आउट किया, जिससे ऑस्ट्रेलिया टीम प्रेशर में आ गई। इतना ही नहीं, चहल ने फील्डिंग में भी शानदार प्रदर्शन किया। 

5. कुलदीप यादव: 

चाइनामैन कुलदीप यादव ने दूसरे वनडे में मैथ्यू वेड, एश्टन एगर और पैट कमिंस को आउट कर अपनी हैट्रिक पूरी की। इसी के साथ कुलदीप यादव तीसरे इंडियन बॉलर बन गए हैं, जिसने इंटरनेशन क्रिकेट में हैट्रिक ली। इससे पहले चेतन शर्मा ने 1987 में न्यूजीलैंड के खिलाफ और कपिल देव ने 1991 में श्रीलंका के खिलाफ हैट्रिक ली थी। कुलदीप यादव इससे पहले भी इंटरनेशनल क्रिकेट में हैट्रिक लगा चुके हैं। कुलदीप ने इससे पहले 2014 में अंडर-19 वर्ल्ड कप के दौरान स्कॉटलैंड के खिलाफ खेलते हुए हैट्रिक लगाई थी। कोलकाता वनडे में कुलदीप यादव ने 10 ओवरों में 54 रन देकर 3 विकेट अपने नाम किए।