दैनिक भास्कर हिंदी: सरफराज से छिनी टेस्ट और टी-20 की कप्तानी

October 18th, 2019

हाईलाइट

  • सरफराज से छिनी टेस्ट और टी-20 की कप्तानी (लीड-1)

लाहौर, 18 अक्टूबर (आईएएनएस)। सरफराज अहमद को पाकिस्तान की टेस्ट और टी-20 टीम के कप्तान पद से हटा दिया गया है। अजहर अली को टेस्ट तथा बाबर आजम को अगले साल होने वाले टी-20 विश्व कप तक सबसे संक्षिप्त फॉरमेट की टीम की कमान सौंपी गई है।

इंग्लैंड में आयोजित आईसीसी विश्व कप में पाकिस्तानी टीम के खराब प्रदर्शन के बाद से सरफराज पर तलवार लटक रही थी। आस्ट्रेलिया के साथ होने वाली आगामी सीरीज के लिए भी उन्हें टीम में शामिल नहीं किया गया है। पाकिस्तानी टीम तीन टी-20 और दो टेस्ट मैच खेलेगी। यह विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप में पाकिस्तान का पदार्पण होगा।

सरफराज की कप्तानी में पाकिस्तान ने साल 2017 में चैम्पियंस ट्रॉफी जीती थी और टी-20 रैंकिंग में टॉप पर पहुंचा था। हाल ही में इस टीम ने श्रीलंका के खिलाफ घर में 10 साल बाद सीरीज खेली और बुरी तरह हार गई।

कप्तानी से हटाए जाने परे सरफराज ने कहा, उच्च स्तर पर पाकिस्तान का नेतृत्व करना बेहद सम्मानजनक रहा। मैं अपने सभी सहयोगियों, कोचों और चयनकतार्ओं को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने इस यात्रा में मेरी मदद की है। मेरी शुभकामनाएं अजहर अली, बाबर आजम और पाकिस्तान क्रिकेट टीम के साथ है और मुझे आशा है कि वे आगे भी मजबूत और मजबूत होते रहेंगे।

टेस्ट टीम के नए कप्तान अजहर ने कहा, मेरा लक्ष्य न केवल जीत हासिल करना है बल्कि खिलाड़ियों को आगे बढ़ने और खुद को अभिव्यक्त करने के लिए अवसर प्रदान करना भी है ताकि पाकिस्तान क्रिकेट शीर्ष तक पहुंचने की अपनी यात्रा फिर से शुरू कर सके। मैंने हमेशा अपने क्रिकेट को कठिन और निष्पक्ष तरीके से खेला है और आगे भी यह सुनिश्चित करुं गा कि क्रिकेट की भावना को बनाए रखूं और टीम एवं देश की छवि बेहतर करुं ।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) बाबर के हवाले से बताया, विश्व की नंबर-1 टीम का कप्तान बनाया जाना अभी तक मेरे करियर का सबसे बड़ा पल है। मैं इस चुनौती के लिए तैयार हूं और इस प्रक्रिया के दौरान बहुत कुछ सीखना भी चाहता हूं। सरफराज ने इस प्रारूप में शानदार कप्तानी करते हुए एक उदाहरण पेश किया है और यह मेरी जिम्मेदारी है कि मैं उनकी उपलब्धियों को आगे बढ़ाऊं ताकि हम एक दमदार टीम बने रह सके।

पीसीबी के अध्यक्ष एहसान मनी ने कहा कि सरफराज को कप्तानी से हटाना एक कठिन फैसला है। हाल के दिनों मे उनका फार्म भी खराब हुआ था, जो सबके दिखने लगा था। ऐसे में टीम के हित में यह फैसला लेना पड़ा।