प्राइवेट सब्जी मंडी: अपने ही आदेश का 20 दिन में नहीं करा पाए पालन, बैकफुट पर नगरनिगम

January 25th, 2023

डिजिटल डेस्क,कटनी। डेढ़ दशक से पुरैनी में संचालित प्राइवेट सब्जी मंडी नगर निगम के गले की फांस बन गई है। बिना अनुमति संचालित निजी सब्जी मंडी को तत्काल हटाने नगर निगम ने  आदर्श थोक फल-सब्जी विक्रेता संघ के अध्यक्ष को नोटिस जारी किया था। नगर निगम के अधिकारी 20 दिन बाद भी अपने नोटिस पर कार्यवाही नहीं कर सके। इस मामले को लेकर कलेक्टर अविप्रसाद ने भी समय-सीमा बैठक में निगमायुक्त से जवाब तलब कर नियमानुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिए थे। पिछले 16 साल से नगर निगम की बाजार शाखा के जिम्मेदार भी अनदेखी करते रहे। अब जब शिकायतें भोपाल तक पहुंची तब नोटिस-नोटिस का खेल शुरू कर दिया।

सौ दुकानों ने नहीं मिल रहा बैठकी

नगर निगम द्वारा 3 जनवरी 2023 को दिए गए नोटिस से ही स्पष्ट होता है कि प्रावइेट सब्जी मंडी से बाजार शाखा को टैक्स भी नहीं मिलता है। नगर निगम आयुक्त द्वारा जारी नोटिस में लेख किया है कि नगर निगमसीमा पुरैनी अंतर्गत  फल-सब्जी के व्यवसाय के लिए नगर निगम से नियमानुसार अनुज्ञा नहीं ली गई है जबकि मप्र्र्र नगरपालिका अधिनियम 1956 की धारा 253 के अंतर्गत नवीन निजी बाजार खोलने के लिए अनुज्ञा लिया जाना आवश्यक है। फुटपाथ पर बैठने वालों से बाजार बैठकी वसूलने वाले नगर निगम के जिम्मेदारों ने सौ दुकानों की भारी भरकम थोक फल-सब्जी मंडी से बाजार बैठकी लेने का प्रयास नहीं किया।

15 साल बाद ननि के रिकार्ड में दर्ज हुई दुकानें

पुरैनी स्थित प्राइवेट सब्जी मंडी की सौ दुकानें नगर निगम में दर्ज नहीं थी। प्राइवेट सब्जी मंडी की वैधानिकता का जब विवाद गहराया तब पिछले साल 2022 में इन दुकानों को नगर निगम के रिकार्ड में दर्ज कर सम्पत्तिकर की वसूली शुरू की गई। नगर निगम के राजस्व निरीक्षक जागेश्वर पाठक के अनुसार पिछले साल उक्त दुकानों को रिकार्ड में दर्ज कर सम्पत्तिकर वसूल किया गया। प्राइवेट सब्जी मंडी पर कलेक्टर के एक्शन के बाद नगर निगम के अधिकारी कार्यवाही के बजाय बचाव का रास्ता खोज रहे हैं। बाजार शाखा के प्रभारी सुनील सिंह ने पहले तो पल्ला झाडऩे का प्रयास किया, बाद में कहा कि आदर्श थोक फल-सब्जी विक्रेता संघ के अध्यक्ष की ओर से जवाब प्रस्तुत किया गया है। जिसे निगमायुक्त के समक्ष प्रस्तुत कर दिया है।