हो सकती हैं ईडी के सामने पेश : वर्षा राऊत को पैसे देने वालों की तलाश में ईडी, वकीलों से मिली राऊत की पत्नी 

August 5th, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) अब केवाईसी के सहारे संजय राऊत के राजदारों की पहचान में जुटी है। जांच एजेंसी ने संबंधित बैंकों से केवाईसी (ग्राहक की पहचान से जुड़े दस्तावेज) और लेन देन का ब्यौरा मंगाया है। पैसे देने वालों की पहचान के बाद ईडी उन सभी लोगों से पूछताछ करेगी और यह जानने की कोशिश करेगी कि उन्होंने वर्षा राऊत के खाते में पैसे क्यों भेजे। ईडी वर्षा के खातों में 1 करोड़ 8 लाख रुपए के संदिग्ध लेन देन करने वालों की पहचान में जुटी है। मामले में ईडी ने वर्षा राऊत को भी पूछताछ के लिए समन भेजा है। ईडी के सामने पेश होने के पहले वर्षा भी पूरी तैयारी करती नजर आ रहीं हैं। शुक्रवार को उन्होंने वकीलों की एक टीम से मुलाकात कर मामले पर चर्चा की। इस दौरान संजय राऊत के छोटे भाई सुनील राऊत भी मौजूद थे। वर्षा शनिवार को ईडी के सामने पेश हो सकती हैं। वर्षा और संजय राऊत को ईडी आमने-सामने बैठा कर पूछताछ करेगी। ईडी पहले ही दावा कर चुकी है कि मामले में गिरफ्तार एक और आरोपी प्रवीण राऊत असल में संजय राऊत का मोहरा है और 1039 करोड़ रुपए के पत्राचाल घोटाले में उसके पास 112 करोड़ आए थे। इसमें से 1 करोड़ 6 लाख रुपए प्रवीण की पत्नी के बैंक खाते के जरिए वर्षा राऊत के बैंक खाते में पहुंचे थे। साथ ही प्रवीण हर महीने संजय राऊत को 2 लाख रुपए देता था। 

संजय राऊत की मेडिकल जांच

ईडी ने शुक्रवार को एक बार फिर संजय राऊत की मेडिकल जांच कराई। जांच के लिए राऊत को जेजे अस्पताल ले जाया गया था। राऊत को दिल की बीमारी है और ऑपरेशन भी हो चुका है इसलिए ईडी एहतियातन समय-समय पर उनकी सेहत की जांच करा रही है। रविवार को गिरफ्तार करने के बाद राऊत की तीन बार मेडिकल जांच कराई जा चुकी है। 

संजय राऊत ने विपक्ष को कहा धन्यवाद

ईडी की हिरासत से संजय राऊत ने कांग्रेस नेता और राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे को पत्र लिखकर मुश्किल समय में साथ देने के लिए धन्यवाद कहा है। शिवसेना सांसद और प्रवक्ता राऊत ने लिखा है कि मुश्किल समय यह दिखाता है कि आप किस पर भरोसा कर सकते हैं। केंद्र सरकार के इशारे पर मुझ पर राजनीति से प्रेरित कार्रवाई के दौरान साथ खड़े रहने के लिए मैं आभारी हूं। उन्होने पत्र में लिखा है कि ‘मैं दबाव में नहीं झुकूंगा। हिंदूहृदय सम्राट बालासाहेब ठाकरे हमेशा कहते थे रोना नहीं सही बात के लिए लड़ना चाहिए।’ राऊत ने आगे लिखा है कि ‘मेरे और मेरी पार्टी के साथ खड़े रहने और संसद के भीतर और बाहर यह मुद्दा उठाने के लिए आपका धन्यवाद।’