चीन से वापस लौटा अरुणाचल का युवक: पिता ने चीन पर लगाए पीटने के आरोप, बिजली के झटके भी दिए, सांसद ने उठाई चीन को उसी की भाषा में जवाब देने की मांग

February 2nd, 2022

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चीन से वापस लौटे अरूणाचल प्रदेश के युवक मीराम तारोन युवक मामले में नया रूख अख्तियार कर लिया है। बेटे के पिता ने न्यूज एंजेसी को बताया कि चीन में उनके बेटे की पिटाई की गई और बिजली के झटके दिए गए। मीराम के पिता ओपांग तारोन ने चीनी सेना पर आरोप लगाते हुए कहा कि चीन की जनमुक्ति सेना के कब्जे में एक वीक से अधिक समय तक रहने के दौरान उसे बांधा गया और उसकी आंखों पर भी पट्टियां बांधी गईं,  इस पूरी घटना से उनके बेटे के मन में डर बना हुआ है और वह मानसिक रूप से परेशान है। 

इस पूरे मामले में अब राजनीति भी होने लगी है। अरूणाचल प्रदेश के बीजेपी सांसद तापिर गाओ ने केंद्र सरकार से उचित कदम उठाने को कहा है। सांसद ने कहा कि  ये गंभीर मामला है जिसमें चीनी सेना ने भारतीय युवक को पीठ पर मारा और बिजली के शॉट दिए। सांसद ने सरकार से इस मामले को उचित प्राधिकरण के सामने उठाने की बात कही। 

सांसद ने आगे कहा कि यह मसला एक युवक तक सीमित नहीं है, चीनी सेना सीमा से सटे घने जंगलों से हमारे लोगों को पकड़ लेती है। बीजेपी सांसद ने अरुणाचल प्रदेश के लोंगडिंग जिले से एक भूमिगत संगठन ने तीन मजदूरों का अपहरण करने की बात भी कही।  इनमें से एक को रिहा कर दिया गया, लेकिन दो अभी भी उनकी कैद में हैं। गौरतलब है कि चीन के साथ अरुणाचल प्रदेश की 1,080 किलोमीटर की सीमा सटी है।  सितंबर 2020 में पीएलए ने अरुणाचल प्रदेश के अपर सुबनसिरी जिले से पांच लड़कों का कथित तौर पर अपहरण कर लिया था, तथा एक हफ्ते बाद उन्हें छोड़ा था।

27 जनवरी को  चीन ने अन्जॉ जिले के किबितू में वाचा-दमाई केंद्र में  मीराम को भारतीय सेना को सौंप दिया था, जहां वह आइसोलेशन में रहा। साोमवार को चीनी सेना ने अपर सियांग जिले में तूतिंग में एक कार्यक्रम में युवक को  उसके माता पिता के हवाले कर दिया जहां स्थानीय नेताओं के साथ लोगों ने उसका जोरदार स्वागत किया।

आपको बता दें चीनी सेना ने लड़के को 18 जनवरी को उस समय अगवा कर लिया था,जब वह अपने मित्र जॉनी यायिंग के साथ एलएसी के पास लुंगता जोर इलाके के जंगलों में शिकार पर गया था, यायिंग किसी तरह घटनास्थल से भाग निकला और उसने प्राधिकारियों को इसकी जानकारी दी थी।