comScore

श्वेता त्रिपाठी ने की खाना बनाना और अभिनय की तुलना, कहा- दोनों में कई समानताएं

श्वेता त्रिपाठी ने की खाना बनाना और अभिनय की तुलना, कहा- दोनों में कई समानताएं

डिजिटल डेस्क, मुम्बई। अभिनेत्री श्वेता त्रिपाठी का कहना है कि उन्हें बहुत अच्छा खाना बनाना नहीं आता है। हालांकि वह खाना बनाने की प्रक्रिया और अभिनय को एक समान मानती हैं। शेफ रणवीर बरार की वेब सीरीज यू गोट शेफडी! के फाइनल सीजन में मशान की अभिनेत्री श्वेता त्रिपाठी को एक डिश बनाने के लिए बुलाया गया था।

खाना बनाने के अनुभव को लेकर अभिनेत्री ने कहा कि मैं बहुत अच्छी शेफ नहीं हूं, लेकिन मुझे खाना काफी पसंद है और मैं खाना जानती हूं। मैं उसकी विधि में फंस जाती हूं।

उन्होंने आगे कहा कि शेफ बरार ने मुझे सिखाया कि किस तरह किसी व्यंजन में बदलाव किया जा सकता है। हालांकि इन सब से परे मुझे एक ही बात समझ आई कि खाना बनाने की तरह ही अभिनय करना भी है। जैसे खाना बनाने के लिए आपको तेल का सही तापमान, साम्रगियों की मात्रा के बारे में ध्यान रखना होता है, उसी तरह अभिनय में भी इसका ध्यान रखना होता है, क्योंकि इसमें भी आपके कौशल के साथ-साथ निर्देशकों और सह कलाकारों के साथ तालमेल बिठा कर चलना होता है।

कमेंट करें
uyqbP
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।