comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Mercedes-AMG GLE 53 Coupe भारत में लॉन्च, जानें कीमत और फीचर्स

Mercedes-AMG GLE 53 Coupe भारत में लॉन्च, जानें कीमत और फीचर्स

हाईलाइट

  • इसकी एक्स शोरूम, कीमत 1.20 करोड़ रुपए है
  • यह देश में पहला एएमजी 53 सीरीज मॉडल है
  • इस कार की बुकिंग पहले से शुरू हो चुकी है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जर्मनी की दिग्गज और लग्जरी कार निर्माता कंपनी Mercedes-Benz (मर्सिडीज-बेंज) ने भारत में नई AMG GLE 53 Coupe (एएमजी जीएलई 53 कूप) कार को लॉन्च कर दिया है। इसकी एक्स शोरूम, कीमत 1.20 करोड़ रुपए रखी गई है। यह कार भारत में Mercedes-AMG GLE 43 Coupe की जगह लेगी। 

बता दें कि Mercedes-AMG GLE 53 Coupe देश में लॉन्च होने वाला पहला एएमजी 53 सीरीज मॉडल है। इसकी बुकिंग पहले से ही सभी मर्सिडीज-बेंज इंडिया डीलरशिप पर शुरू हो चुकी है। 

Toyota Urban Cruiser भारत में लॉन्च, जानें कीमत और फीचर्स

एक्सटीरियर
Mercedes-AMG GLE 53 Coupe डिजाइन के मामले में काफी हद तक स्टैंडर्ड जीएलई कूप एसयूवी के जैसी ही है। हालांकि इसमें बड़े एयर इंटेक के साथ न्यू डिजाइन बम्पर और फ्रंट में एएमजी-स्पेसिफिक रेडिएटर ग्रिल दी गई है। इसके अलावा इंटीग्रेटेड रियर स्पॉइलर और ब्लैक क्रोम वाली क्वाड टेल पाइप्स के साथ रियर डिफ्यूजर भी दिया गया है। इस कार में 20 इंच के एलॉय व्हील्स दिए गए हैं। 

ग्राहकों को इसमें 21-इंच के अलॉय व्हील्स को चुनने का विकल्प मिलेगा। इसके अलावा ग्राहकों को एएमजी नाइट पैकेज चुनने का विकल्प भी मिलेगा,  जिसमें हीट-इंसुलेटिंग, डार्क टिंटेड विंडो और फ्रंट स्प्लिटर, फ्रंट एप्रन टिप, डिफ्यूज़र और बाहरी एयर इनलेट शामिल हैं।

इंजन और पावर 
इस कार में 3.0-लीटर का ट्विन टर्बो इंजन दिया गया है। यह इंजन 435 bhp की मैक्सिमम पावर और 520 Nm का पीक टॉर्क जेनरेट करता है। इसका इंजन 9-स्पीड AMG स्पीड शिफ्ट ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन से लैस है। इसमें 48-वॉल्ट माइल्ड-हाईब्रिड तकनीक का इस्तेमाल किया गया है, जिससे इसमें 22 bhp और 250 Nm का अतिरिक्त पावर आउटपुट मिलता है। इसमें ऑल-व्हील ड्राइव सिस्टम दिया गया है। 

Honda जल्द उठाएगी इलेक्ट्रिक कार से पर्दा, टीजर में दिखा स्टाइलिश फ्रंट लुक

स्पीड 
यह एसयूवी महज 5.3 सेकेंड्स में 0-100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ने में सक्षम है। वहीं इसकी टॉप स्पीड 250 किलोमीटर प्रति घंटा है।

इनसे मुकाबला
भारतीय बाजार में Mercedes-AMG GLE 53 Coupe का सीधा मुकाबला Porsche Cayenne Coupe (पोर्श केयेन कूप) और BMW X6 M (बीएमडब्ल्यू एक्स 6 एम) से होगा।

कमेंट करें
R9BYv
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।