दैनिक भास्कर हिंदी: कोर्ट में सुनवाई के दौरान फूट फूट कर रोए करण, कहा- नहीं था महिला के साथ रिश्ते में

May 7th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुम्बई। टीवी एक्टर करण ओबेरॉय इस समय मुम्बई पुलिस की गिरफ्त में हैं। मुम्बई पुलिस ने उन्हें रेप के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। करण पर एक फैशन डिजाइनर ने धोखे से रेप करने का आरोप लगाया है। इसके साथ रेप का वीडियो बनाने और वीडियो के जरिए धमकी देने का भी आरोप है। सोमवार को अंधेरी कोर्ट में चल रही सुनवाई के दौरान करण ओबेरॉय फूट-फूट कर रोने लगे। कोर्ट ने करण को 9 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

केस के दौरान पीड़िता ने आपबीती बताते हुए कहा कि 'मैं करण से एक डेटिंग ऐप के जरिए टच में आई। शुरू में उन्होंने मुझसे मेरी कुछ सामान्य तस्वीरें मांगी, बाद में वह मुझसे न्यूड तस्वीरें मांगने लगे। अक्टूबर 2016 में हमारी मुलाकात हुई और पहली ही मुलाकात में हम काफी नजदीक आ गए। इसके बाद हम मिलते रहे और मैं करण पर पैसे खर्च करने लगी। मई 2017 में करण ने बताया कि उनका घर गिरवी रखा हुआ है। मैंने उन्हें मदद के लिए लाखों रुपये दिए। मैंने उन्हें घर के कई सामान भी खरीदकर दिए। बाद में करण के एक नजदीकी व्यक्ति ने मुझे बताया कि वह केवल मेरा इस्तेमाल कर रहे हैं। मैंने अपना दिया पैसा करण से वापस मांगा तो उन्होंने मना कर दिया। मुझे नहीं पता कि करण ने मेरी तस्वीरें और वीडियो डिलीट किए भी हैं या नहीं।' 

वहीं करण ने भी अपना पक्ष रखा। करण ने कहा कि 'शुरू में मैंने उनसे फ्लर्ट किया था लेकिन तब मैं सिंगल था। उस महिला ने मुझे बताया कि उसके पिता उसके साथ मारपीट करते थे और इसलिए मुझे उससे सहानुभूति थी। हमारे बीच कोई रिलेशनशिप नहीं थी और न ही हमारे बीच सेक्स हुआ। मैंने उन्हें हर जगह से ब्लॉक किया है। उन्होंने मुझसे कहा था कि वह मेरा घर संभालना चाहती हैं और यही मेरी सबसे बड़ी गलती थी। मुंबई में मेरे 2 घर हैं और उनमें से कोई भी गिरवी नहीं है। मैंने अपने घर का सामान खरीदने के लिए उन्हें पैसे भी दिए थे। उधार देने का उनका दावा गलत है। बाद में मैंने गार्ड से भी कह दिया कि यह महिला मेरे घर पर नहीं आनी चाहिए। इसके बाद उन्होंने अपनी कलाई काट कर भी मुझे धमकी थी। मैंने कभी भी किसी महिला का अपमान नहीं किया है, लेकिन यह सामान्य नहीं है, यहां पर तो मैं ही पीड़ित हूं। मैं इस महिला के साथ किसी तरह की रिलेशनशिप में नहीं रहा हूं।' 

खबरें और भी हैं...