comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

अमरावती जिले में  135 प्रत्याशी आजमा रहे किस्मत, उस्मानाबाद सीट पर सियासी उबाल

अमरावती जिले में  135 प्रत्याशी आजमा रहे किस्मत, उस्मानाबाद सीट पर सियासी उबाल

डिजिटल डेस्क, अमरावती। जिले में वर्ष 2014 का विधानसभा चुनाव दो कारणों से काफी चर्चित और रोचक रहा। राष्ट्रीय नेताओं की प्रचार सभाएं और दल-बदल की स्थिति ने चुनाव को दिलचस्प बना दिया था। इस चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की सभाएं चर्चा में रहीं। भाजपा ने प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय सचिव अमित शाह को बुलवाया था, जबकि कांग्रेस ने राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और इमरान मसूद को आमंत्रित किया था। 10 अक्टूबर को चांदुर रेलवे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा हुई थी। इससे पूर्व 8 अक्टूबर को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी प्रचार सभाओं को संबोधित किया था। उस समय 14 अक्टूबर को विस चुनाव के लिए मतदान हुए और 19 अक्टूबर को नतीजे घोषित हुए। जिले के 8 विस क्षेत्रों में दिग्गज प्रत्याशियों को विभिन्न दलों ने चुनाव मैदान में उतारा था। रावसाहब शेखावत, डॉ. सुनील देशमुख, प्रदीप बाजड, मिर्जा नईम अख्तर, डॉ. अनिल बोंडे, सुलभा खोडके, स्व. संजय बंड, एड. यशोमति ठाकुर, साहबराव तट्टे, हर्षवर्धन देशमुख, अरुण अड़सड़, प्रा. वीरेंद्र जगताप, कैप्टन  अभिजीत अड़सूल, दिनेश बूब, केवलराम काले, राजकुमार पटेल, बच्चू कडू, वसुधा देशमुख, बबलू देशमुख, नाना वानखड़े, सुरेखा ठाकरे, निवेदिता चौधरी, तुषार भारतीय जैसे दिग्गजों सहित 135 प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे। वर्ष 2014 में कांग्रेस के दिग्गज नेता डा.सुनील देशमुख ने भाजपा का दामन थाम लिया और अमरावती विस क्षेत्र से भाजपा की टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे। ऐसे में कांग्रेस ने उनके खिलाफ रावसाहब शेखावत को मैदान में उतारा था। अल्पसंख्यक बहुल इलाकों में लोकप्रिय रहे डा.सुनील देशमुख के भाजपा में चले जाने से इन क्षेत्रों के मतदाताओं में असमंजस की स्थिति निर्माण हो गई थी। हालांकि डॉ. सुनील देशमुख ने ही यह चुनाव जीता था।

उस्मानाबाद सीट पर दूध और चीनी का उबाल, मतदाता उठा रहे सवाल

उधर उस्मानाबाद जिले में कुल चार विधानसभा मतदाता संघ हैं। भूम-परंडा विधानसभा मतदाता संघ में दूध संघ व उस्मानाबाद विधानसभा मतदाता संघ में तेरणा चीनी फैक्ट्री के साथ जिला बैंक है। वहीं तुलजापुर विधानसभा मतदाता संघ में तुलजाभवानी चीनी फैक्ट्री के डूबने व गेट-केन उम्मीदवार जैसे मुद्दे उपस्थित हो रहे हैं। उस्मानाबाद विधानसभा मतदाता संघ में राकांपा से शिवसेना में आए कैलाश पाटील को उम्मीदवारी मिली है। इस कारण शिवसैनिक उस उम्मीदवार की और ‘गेट-केन’ के रूप में देख रहे है। शिवसैनिकों ने कहा कि 25 से 30 साल से हमने शिवसेना को बढ़ाने का कार्य किया है, किंतु बाहर से आए लोगों को उम्मीदवारी दी गई। इस कारण निष्ठावान शिवसैनिकों में गुस्सा है। ऐसा माहौल राकांपा उम्मीदवारों के बारे में देखने को मिल रहा है, किंतु राकांपा उम्मीदवार संजय निंबालकर पिछले कई सालों से राजनीति में हैं, लिहाजा बगावत कुछ थम सा गया है। शिवसेना के सांसद ओमराजे निंबालकर के पिता के हाथ में जिला बैंक व तेरणा चीनी फैक्ट्री थी। हर चुनाव में सवाल उठता है- सहकार क्षेत्र को किसने डूबाया? भूम-परंडा विधानसभा मतदाता संघ में शिवसेना के पालकमंत्री तानाजी सावंत सोलापूर जिले के निवासी हैं। इसी कारण उन्हें ‘गेट-केन’ उम्मीदवार रूप में देखा जा रहा है, किंतु उन्होंने परंडा तहसील में चीनी फैक्ट्री शुरू किया और उस्मानाबाद जिले के राजनीति में भी सक्रिय रहे। सावंत शिवसेना की और से विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं और उनके खिलाफ राकांपा के मौजूदा विधायक राहुल मोटे हैं। राहुल मोटे के गुट में भूम का दूध संघ था। वह दूध संघ डूबने के कारण राहुल मोटे पर कई सवाल उठाए जा रहे हैं। राज्य सरकारी बैंक के मामले राज्य में दर्ज प्रकरणों में राहुल मोटे का भी नाम है। इसी कारण इस चुनाव में भी सहकार क्षेत्र डूबाने वाले उम्मीदवार कह कर आलोचना की जा रही है। विशेष बात यह है कि राहुल मोटे ने अपने विधायकी के तीन टर्म पूरे किए हैं, किंतु विकास कार्य कुछ भी नहीं हुआ। सावंत इसका भरपूर राजनीतिक लाभ उठा रहे हैं। 

यहां सहकार क्षेत्र डुबोने वाले सुर्खियों

ठीक इसी प्रकार की स्थिति तुलजापूर विधानसभा मतदाता संघ में कांग्रेस के मधुकरराव चव्हाण और भाजपा के विधायक राणा जगजीत सिंह पाटील के बीच बनी है। राणा पाटील राकांपा से भाजपा में गए हैं। यहां भी सहकार क्षेत्र डूबोने वाले की चर्चा है। मधुकरराव चव्हाण के कार्यक्षेत्र में तुलजा भवानी चीनी फैक्ट्री थी, वह भी डूब गई है। जिले का दूध संघ भी डूब गया। जिले के सहकार क्षेत्र पर राकांपा व कांग्रेस का कब्जा था, किंतु चुनाव के मौके पर ही सहकार क्षेत्र, ‘गेट-केन’ उम्मीदवार यह मुद्दा सामने लाए जा रहे हैं। राणा जगजीतसिंह पाटील का गांव उस्मानाबाद तहसील के अंदर है, लेकिन उनका गांव तेर तुलजापुर विधानसभा मतदाता संघ में शामिल है। यही कारण है कि राणा पाटील को तुलजापूर विधानसभा मतदाता संघ में गेट-केन उम्मीदवार के रूप मे देखा जा रहा है। उमरगा विधानसभा मतदाता संघ में शिवसेना के मौजूदा विधायक ज्ञानराज चौगुले व कांग्रेस के दिलीप भालेराव के बीच मुकाबला है। चौगुले की विधायकी के कार्यकाल में विकासात्मक कार्य न होने से लोग काफी नाराज है, तो कांग्रेस के हाथ में नगर परिषद होते हुए भी वहां अच्छा कार्य नहीं होने से लोगों में नाराजी है। 

कमेंट करें
21fhb
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।