दैनिक भास्कर हिंदी: वेतन के लिए चक्कर काट रहे VNIT के 150 सुरक्षाकर्मी

January 29th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शहर के बजाज नगर स्थित विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान में कार्यरत सुरक्षाकर्मियों में वेतन न मिलने से भारी असंताेष है। सुरक्षाकर्मी संस्थान के अकाउंट्स विभाग से लेकर तो नियोक्ता एसआईएस कंपनी के चक्कर काट रहे हैं, इसके बावजूद उन्हें कोई ठोस उत्तर नहीं मिल रहा। दो माह से वेतन नहीं मिलने के कारण सुरक्षाकर्मियों का जीवन बसर करना मुश्किल हो गया है। सुरक्षाकर्मियों के अनुसार, उन्हें इस कारण से यातनाएं झेलनी पड़ रही हैं। उनके घर चलाने से लेकर तो कई जरूरी कार्य इसके लिए रुके पड़े हैं। 

150 सुरक्षाकर्मी लगा रहे चक्कर
उल्लेखनीय है कि वीएनआईटी में करीब 150 सुरक्षाकर्मी कार्यरत हैं। ये कई शिफ्टों में अपनी सेवाएं देते हैं। प्रत्येक गार्ड को करीब 13 हजार 500 रुपए वेतन दिया जाता है। सुरक्षाकर्मियों ने भास्कर से बातचीत में बताया कि उन्हें प्रतिमाह 7 से 12 तारीख के बीच वेतन मिल जाता है। लेकिन बीते दिसंबर से लेकर जनवरी तक उन्हें कोई वेतन नहीं दिया गया है। पहले तो उन लोगों ने वेतन मिलने में देरी को कुछ दिन का इंतजार समझ कर ध्यान नहीं दिया, लेकिन इंतजार लंबा होता रहा तो उन्होंने पूछताछ की।

सुरक्षाकर्मियों के अनुसार, उन्होंने वीएनआईटी के अकाउंट सेक्शन में इस बारे में पूछताछ की, तो उन्हें जानकारी दी गई कि उनके वेतन का भुगतान कंपनी को पहले ही किया जा चुका है। इसके बाद कंपनी में संपर्क करने पर वीएनआईटी से ही भुगतान नहीं मिला, ऐसी जानकारी दी गई। सुरक्षाकर्मियों के अनुसार, उन्हें उनके हक का वेतन नहीं दिया जा रहा, इससे उन्हें प्रताड़ना हो रही है। उनका वेतन जल्द से जल्द जारी होना चाहिए। 

प्रतिक्रिया देने से इनकार 
एसआईएस के ऑपरेशनल मैनेजर विकास दास से इस बारे में फोन पर संपर्क किया गया तो उन्होंने कंपनी की प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया। कहा कि कोई भी जानकारी चाहिए तो कंपनी के कार्यालय आकर पूछताछ कर ली जाए। इसके बाद उन्होंने फोन काट दिया। एसएमएस भेजे जाने पर उनकी ओर से कोई प्रतिसाद नहीं मिला। 

दो दिन में भुगतान होगा
कुछ कारणों से सुरक्षाकर्मियों का वेतन रुका पड़ा था। हमने इस समस्या को सुलझा लिया है। सुरक्षाकर्मियों को दो से तीन दिन के भीतर वेतन मिल जाएगा। इतने बड़े सिस्टम में ये छोटी-मोटी बातें होती रहती हैं। 
- डॉ.प्रमोद पड़ोले, डायरेक्टर वीएनआईटी 

खबरें और भी हैं...