comScore

गर्भवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने वाले 3 आरोपी गिरफ्तार, दिव्यांग से रेप करने वाला हॉस्टल अधीक्षक भी धराया

गर्भवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने वाले 3 आरोपी गिरफ्तार, दिव्यांग से रेप करने वाला हॉस्टल अधीक्षक भी धराया

डिजिटल डेस्क, नागपुर। गर्भवती महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला शनिवार को सामने आया। घटना को पीड़िता की सहेली के पति ने अपने दो मित्रों की मदद से अंजाम दिया। शनिवार को तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उन्हें 10 जून तक पुलिस रिमांड में भेज दिया गया है। पीड़ित 18 वर्षीय विवाहिता चार माह की गर्भवती है। 3 जून-2020 की रात को आरोपी छोटू उर्फ मिथेश दीपक सुदामे (26), प्रीतेश उर्फ मन्नी नरेश बिजवे (30) और संग्या उर्फ संदेश पंडागले (30), सभी सुदाम नगरी निवासी ने उसका अपहरण किया और पुरोहित ले-आउट में स्थित एक इमारत की छत पर ले जाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। घटना के बाद आराेपी प्रीतेश और संदेश अमरावती जिले के पिपलाघाट में रिश्तेदार के घर भाग गए। उन्हें तड़के 4 बजे गिरफ्तार किया गया। इसके एक दिन पहले ही छोटू को गिरफ्तार किया गया था। प्रीतेश तड़ीपार  है। संदेश को तड़ीपार करने का आदेश जारी हुआ है। पीड़िता आरोपी छोटू की पत्नी की सहेली है। छोटू की पत्नी कुछ दिन पहले भाग गई है। छोटू को इसमें पीड़िता का हाथ होने का शक था। वह पत्नी के बारे में बार-बार पीड़िता से बार पूछताछ कर रहा था। पीड़िता का कहना था कि, उसे इस बारे में उसे कोई जानकारी नही है। इसे लेकर छाेटू और पीड़िता के बीच विवाद भी हुआ था। घटना के दो दिन बाद शिकायत करने से मामले को लेकर संदेह व्यक्त किया जा रहा है। जांच जारी है। 

दिव्यांग बालिका से दुष्कर्म हॉस्टल अधीक्षक गिरफ्तार

उधर काटोल थाना क्षेत्र स्थिति एक निजी हॉस्टल  में रहने वाली एक 14 वर्षीय दिव्यांग बालिका से हॉस्टल के अधीक्षक द्वारा दुष्कर्म किए जाने का मामला शनिवार को सामने आया। आरोपी अधीक्षक राजेंद्र कालबांडे को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले में पीड़ित बालिका की मां व एक परिचारिका को आरोपी बनाया गया है। जानकारी के अनुसार लॉकडाउन होने पर पीड़िता अपने घर गई, तब बालिका गर्भवती थी। मां द्वारा उससे पूछताछ करने पर उसने मां को हॉस्टल अधीक्षक की करतूत के बारे में बताया। पश्चात मां ने अधीक्षक कालबांडे को फोन लगाया तो उसने उसे डराया-धमकाया तथा पैसे का लालच दिया। लालच में आकर मां चुप हो गई। पश्चात कालबांडे ने एक निजी अस्पताल में पीड़िता को ले जाकर परिचारिका की मदद से उसका गर्भपात कराया। इस बारे में पीड़िता के पिता को भनक लगने पर उन्होंने  काटोल पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई। हरकत में आई पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए आरोपी राजेंद्र कालबांडे को धरदबोचा।  
 

कमेंट करें
mijzG