comScore

सड़क दुर्घटना में 40 यात्री घायल, एसटी बस पुल की सुरक्षा दीवार से टकराई

सड़क दुर्घटना में 40 यात्री घायल, एसटी बस पुल की सुरक्षा दीवार से टकराई

डिजिटल डेस्क, नागपुर। काटोल से तिष्टी मार्ग से बस सावनेर की ओर जा रही थी बस गड्ढे में कूदने से बस पर चालक का नियंत्रण छूट गया। अनियंत्रित बस पुल की सुरक्षा दीवार से टकरा गई। जिसमें 40 यात्री घायल हो गए। प्राप्त जानकारी के अनुसार बस क्रमांक एमएच-40, एन-8625 खैरी (नवघरे) के पास एक पुल की सुरक्षा दीवार से टकरा गई। इसमें कुल 40 यात्री घायल हो गए। बस में छोटे बच्चे, महाविद्यालयीन छात्र व वृद्ध सवार थे। घटना मंगलवार को दोपहर डेढ़ बजे घटी। सभी घायल यात्रियों को उपजिला चिकित्सालय काटोल में दाखिल किया गया। प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर रूप से घायलों को नागपुर भेजा गया। घटना की जानकारी मिलते ही  उपविभागीय पुलिस अधिकारी  नागेश जाधव, थानेदार महादेव आचरेकर, सहायक पुलिस निरीक्षक राहुल बोंद्रे ने स्थिति की समीक्षा की।

दुर्घटना में स्नेहा नरेंद्र मदनकर (19) गोंडीमोहगांव, तहसील काटोल निवासी, रामराव दशरुदेव लोणे (55) सिंजर तहसील नरखेड़ निवासी, चिंधाबाई नारायण रेंडके (60) खरांगणा जिला वर्धा निवासी, गौरव धनसिंह शिंपीकर (12), दुर्गा धनसिंह शिंपीकर (40), डॉली धनसिंह शिंपीकर (10) खरांगणा निवासी, संकेश्वर जंगलू कावडकर (18), निलेश गणपत घाटोले (20), ललित धनराज दूधकवले (18) तीनों गोंडीमोहगांव तहसील काटोल निवासी, हरिभजन दौलत कुंभरे (65) काटोल निवासी, कुसुम प्रकाश सरोदे (40), प्रकाश केशव सरोदे (45) दोनों खैरगांव तहसील नरखेड़ निवासी, महेश बलीराम वाघदरे (27) करमाकडी    तहसील सौंसर, मध्यप्रदेश निवासी, अविनाश विट्ठलराव आष्टणकर (74) जानकीनगर काटोल निवासी, रानाबाई किसनाजी कामडे (65) विसापुर तहसील सावनेर निवासी, पूजा शंकर मसराम (20) तेलगांव तहसील कलमेश्वर निवासी , चेतना बंडूजी पाटील (19) तिष्टी बुआ तहसील कलमेश्वर निवासी, निकिता नरेश्वर कचंडे (19) तिष्टी बुआ तहसील कलमेश्वर निवासी, अंजली पुंजाराम सोनवाने (18)बोरी तहसील काटोल निवासी, द्रौपदी वासुदेव भोंडे (60) वाडेगांव तहसील वरूड़ जिला अमरावती निवासी, अखिल भगवान चोरघडे (27) परसोडी तहसील कलमेश्वर निवासी, मोहित अर्जुन मडावी (5) घुबडी निवासी, जीजाबाई जंगलु मडावी (60)  घुबडी निवासी, चैतन्य विष्णु परतेती (2) घुबडी निवासी, बेबीबाई उकंडराव परतेती (60) घुबडी तहसील काटोल निवासी, यशवंत तुकाराम वाघे (47) द्वारकानगरी काटोल निवासी, महादेव गेंदलाल मोरे (65) रेलवे स्टेशन वार्ड, काटोल निवासी, मंजाबाई राजेराम हनवते (65) खैरी नवघरे तहसील काटोल निवासी, शुभांगी तुलसीराम कावडकर (18) गोंडीमोहगांव तहसील काटोल निवासी, चंद्रशेखर रमेश साठे (23) खैरी तहसील काटोल निवासी, शालिनी लीलाधर हेडाऊ (21) सावनेर निवासी, मोनाली प्रभाकर सावंतकर (21) सावनेर निवासी, पुंडलिक गोविंदराव वंजारी (70) किन्ही नेरी तहसील हिंगना निवासी, ममता मोहन गवली (20) गोंडीमोहगांव निवासी, विट्ठल सहदेव कातलाम (52) हेटीकुंडी तहसील कारंजा घाडगे निवासी, शकुंतला किसनाजी डांगोरे (60) पारडसिंगा निवासी, किसना झापरु डांगोरे (65) पारडसिंगा निवासी, जयवंती गोमाजी इवनाते (60) सबकुंड तहसील काटोल निवासी, प्रीति महेश वाघदरे  कारंजा घाडगे जिला वर्धा निवासी, प्रतीक सुधाकर हिवसे (19) तिष्टी निवासी का घायल यात्रियों में समावेश है।

लोकनिर्माण विभाग के माध्यम से सड़क सावनेर-घुबड़ात-झिलपा-सावनेर-पारशिवनी रोड का सीडी वर्क के तहत 34 किमी का काम चल रहा है। इस काम के लिए 60 करोड़ रुपए की लागत से काम शुरू है। यह काम पाटणसावंगी रोडवेज प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है। हालांकि, इस सड़क पर काम करते समय, काम में उपयोग की जाने वाली मुरुम के बजाय लाल मिट्टी का उपयोग किया गया है। इसके कारण दुर्घटना की संख्या, मिट्टी में गाड़ी फंसना और फिसलने वाले वाहनों में वृद्धि हुई है। घटना की जानकारी मिलते ही  पूर्व मंत्री अनिल देशमुख, पूर्व उपाध्यक्ष समीर उमप, पूर्व पंस उपसभापति अनूप खराडे, राजू ठाकुर, भूषण सावरकर, नप उपाध्यक्ष जितेंद्र तुपकर, नप सभापति किशोर गाढवे, नगरसेवक तानाजी थोटे, निलेश धोटे, बालू नासरे, रुपेश नाखले, नबीरा महाविद्यालय के कार्यकारी प्राचार्य गुणवंत खोरगडे, राजू धुर्वे  व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने ग्रामीण चिकित्सालय जाकर जरूरतमंदों की मदद की। ग्रामीण चिकित्सालय के  वैद्यकीय अधिकारी डा. डोमके, डा. नांदगावकर व संपूर्ण कर्मचारियों ने बिला किसी विलंब के इलाज किया। काटोल निजी अस्पतल के  डा. चिंचे, डा. घाटे, डा. कालवीट, डा. कारांगले ने  घटना की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए ग्रामीण चिकित्सालय में सेवा दी।

कमेंट करें
g3TFM
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।