दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना पर जीत के लिए नागपुर सहित महाराष्ट्रभर में बनाई जा रही 8 लैब, 15 दिन का लक्ष्य

March 18th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के नियमों के आधार पर शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेडिकल) में कोरोना के वायरस की जांच के लिए लैब बनाई जाएगी। उपराजधानी सहित राज्यभर में 7 लैब बनाई जाने वाली है, जिनको 15 दिन में बनाने का लक्ष्य रखा गया है। इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) की लैब पर 4 राज्यों के मरीजों की जांच का भार है, जो इसके बाद से दूर हो जाएगा।

1.33 करोड़ रुपए आएगा खर्च

मेडिकल में कोरोना की जांच के लिए बनाई जाने वाली लैब पर 1.33 करोड़ रुपए खर्च आने की जानकारी सामने आई है। लैब के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर जांच के लिए मशीन और उपकरण के साथ ही मटेरियल की व्यवस्था कर उसे 15 दिन में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। लैब बनने के बाद शुरुआत के कुछ दिनों में सैंपल का क्रॉस चैक किया जाएगा। इसका मुख्य उद्देश्य नई लैब और मशीनों पर होने वाली जांचों की पुष्टि करना है। क्रॉस चैक के लिए सैंपल को मेयो में भेजा जाएगा क्योंकि वहां पहले से ही सैंपल की जांच की जा रही है।

देश में 49 नई लैब बनाने की तैयारी

वर्तमान में देशभर में कोरोना की 72 लैब है। वहीं, नई 49 लैब को बनाने की तैयारी कर ली गई है जिससे एक दिन में बड़ी संख्या में कोरोना संदिग्ध मरीजों की जांच कर भ्रम को दूर किया जा सके। इसके अलावा जो भी पॉजिटिव मरीज है उनको अलग कर उनका उपचार किया जा सके।

पुणे में स्वास्थ्य मंत्री ने दी जानकारी

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि कोरोना के लक्षण पाए जाने पर यात्रा की जांच की जाएगी। राज्य में आठ नई लैब शुरू करने का निर्णय लिया गया है। गुरूवार से तीन लैब तत्काल शुरू कर दी जाएंगी। टोपे ने बुधवार को पुणे स्थित एनआईवी लैब का आद्घाटन किया। टोपे ने कहा कि कोरोना की जांच करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। सर्दी, सुकाम, खांसी हुई तो तत्काल जांच नहीं की जाएगी। कोरोना के लक्षण पाए गए अथवा यात्रा की गई है, तो ही कोरोना की जांच की जाएगी। 

आठ नई लैब शुरू की जाएंगी

टोपे ने बताया कि राज्य में फिलहाल चार जगहों पर लैब शुरू है। अब आठ नई जगहों पर लैब शुरू करने का निर्णय लिया गया है। मुंबई स्थित केईएम, कस्तुरबा रूग्णालय में सैम्पल सुविधा, बी. जे. मंे नई टेस्टिंग लैब गुरूवार से शुरू होंगी। हाफकिन इन्स्टीट्यूट और दो लैब अगले चार दिनों में शुरू होगी। धुले, औरंगाबाद तथा सोलापुर में भी लैब शुरू करने का प्रयास है। नई लैबांे के लिए एनआईवी से उपकरण मिलेंगे। निजी लैबों को भी जांच की

मंजूरी दी जाएगी। 

निजी अस्पतालों में भी आईसोलेशन रूम होंगे। राज्य में 700 वेंटिलेटर और 600 आईसोलेशन बेड्स तैयार हैं। निजी अस्पतालों को भी आईसोलेशन बेड्स तैयार रखना जरूरी करार दिया गया है। 
 

खबरें और भी हैं...