comScore

जिले में 839 एड्स पॉजीटिव मिले, इस वर्ष अब तक 39 चिन्हित

जिले में 839 एड्स पॉजीटिव मिले, इस वर्ष अब तक 39 चिन्हित

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। जिले में 839 एड्स पॉजीटिव मरीज मिले चुके हैं। इनमें 466 पुरुष और 373 महिलाएं शामिल हैं। जिला अस्पताल में वर्ष 2006 से संचालित एसटीडी क्लीनिक में एचआईवी पॉजीटिव मरीजों में से 550 पॉजीटिव को इलाज दिया जा रहा है। जिला अस्पताल के अलावा जिले में अमरवाड़ा, सौंसर, पांढुर्ना, परासिया, चांदामेटा में आईसीटीसी सेंटर संचालित किए जा रहे है। जहां मरीजों की जांच और इलाज दिया जा रहा है। सौंसर और पांढुर्ना में सौ से भी अधिक लोग एचआईवी पॉजीटिव मिल चुके है। एसटीडी क्लीनिक में एसटीडी कंसलटेंट डॉ.केशव झारिया, आईटीसीटी काउंसलर श्रीमती सोमा यादव और लैब टैक्नीशियन नरेन्द्र सोनी संदिग्धों की जांच और काउंसलिंग कर रहे है।
53 गर्भवती महिलाएं पॉजीटिव-
बीते 12 सालों में 839 पॉजीटिव मरीजों में 373 महिलाएं है। इनमें से 53 गर्भवती महिलाएं है जिनकी गर्भ की जांच के दौरान एचआईवी पॉजीटिव की पुष्टि हुई थी। गनीमत है इन गर्भवती महिलाओं द्वारा जन्में नवजातों में से सिर्फ दो बच्चे एचआईवी पॉजीटिव आए है शेष सभी बच्चे एचआईवी नेगेटिव है।  
कई लोग गवां चुके है जान-
जिले में वर्ष 2006 से अभी तक पॉजीटिव मरीजों में से 78 मरीज अपनी जान गवां चुके है। जिला मुख्यालय में अभी तक 32 पॉजीटिव मरीजों की मौत हो चुकी है। काउंसलरों द्वारा हर मरीज को दवाओं के नियमित सेवन की सलाह देते है।
जिला अस्पताल में खुलेगा एआरटी सेंटर-
जिले में एचआईवी पॉजीटिव मरीजों को इलाज के लिए सिवनी स्थित एआरटी सेंटर जाना होता था। इस वजह से अक्सर मरीज को समय पर इलाज नहीं मिल पाता था। अब जिला अस्पताल में ही एआरटी सेंटर खोला जा रहा है। काउंसलर श्रीमती सोमा यादव ने बताया कि आगामी छह से आठ माह में अस्पताल में ही एड्स पीडि़तों को इलाज मिला शुरू हो जाएगा।
यह संस्थाएं कर रहे जागरुक-
स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर कई संस्थाएं एड्स के प्रति लोगों को जागरुकता कार्यक्रम चला रही है। एसटीडी कंसलटेंट डॉ.केशव झारिया ने बताया कि जिले की ज्वाला ग्रामीण संस्था, ग्रामीण विकास संस्था, जनमंगल संस्थान, अहाना संस्था द्वारा जागरुकता कार्यक्रम चलाए जा रहे है।
 

कमेंट करें
LJghT