दैनिक भास्कर हिंदी: हमारे यूनिवर्सिटी का गौरवशाली इतिहास, बाहर से पढ़ने आते हैं स्टूडेंट्स : कुलगुरु शेठ 

August 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। हमारे यूनिवर्सिटीज का गौरवशाली इतिहास रहा है। नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्विविद्यालयों में देश ही नहीं अपितु विदेश से भी बच्चे पढ़ाई करने आते हैं। 1930 से हमारे यहां के स्टूडेंट्स को नोबल बाहर पढ़ने जाने पर मिला, जबकि वे हमारे स्टूडेंट्स थे। यह बात गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी के कुलगुरु डॉ. एनआर शेठ ने कही। वे शनिवार को नागपुर यूनिवर्सिटी के 95वें स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर अमरावती रोड स्थित गुरुनानक भवन में आयोजित विशेष कार्यक्रम में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि सिंगापुर ,कोरिया जैसे छोटे-छोटे देश जो नागपुर के बराबर के हैं व उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रहे हैं । टॉप 100 में से 7 से 10 यूनिवर्सिटीज उनकी शामिल है जबकि मैंने देखा है कि हमारे यहां की सुविधाएं और वहां की सुविधाएं लगभग समान है। हमारा टैलेंट बाहर जाने के कारण अवार्ड्स से वंचित रह जाता है। क्योंकि उन्हें ऐसा लगता है कि यहां सुविधाएं नहीं है। रिसर्च का मौका नहीं मिलता। किसान और उद्योगों की समस्याओं को यूनिवर्सिटी में सुलझाया जाता है। इको सिस्टम तैयार है ताकि इनोवेटिव ब्रेन इस  यूनिवर्सिटी में आए।  

समारोह में अहमदाबाद की गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिर्वसिटी के कुलगुरु डॉ.एन.आर.शेठ बतौर, यूनिवर्सिटी कुलगुरु डॉ.सिद्धार्थविनायक काणे, प्रकुलगुरु डॉ.प्रमोद येवले  व कुलसचिव डॉ.नीरज खटी प्रमुखता से उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ.सिद्धार्थविनायक काणे ने की। इस अवसर पर इतिहासकार डॉ.भालचंद्र रामचंद्र अंधारे को राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज जीवनसाधना पुरस्कार से सम्मानित किया गया सत्कारमूर्ति अंधारे ने कहा कि मॉरिस कालेज मेरी मां है। यूनिवर्सिटी मेरा पिता है और नागपुर मेरी आत्मा है।

राज्यपाल चेन्नामनेनी विद्यासागर राव  ने इस अवसर पर कहा कि हमें पौधारोपण पर विशेष जोर देना होगा। इस पर यूनिवर्सिटी ने भी विचार किया और आज मैं घोषणा कर रहा हूं कि यूनिवर्सिटी से संबद्ध 3.50 लाख स्टूडेंट्स, 1 स्टूडेंट्स 1 ट्री मुहिम चलाएंगे और उसकी देख-रेख का जिम्मा भी लेंगे। अगली कांफ्रेंस से प्लास्टिक यूज नहीं होगा इसकी जिम्मेदारी भी प्रशासन लेकर ध्यान रखेगा। 

इन्हें मिला पुरस्कार
रामदेव बाबा सार्वजनिक समिति -आदर्श शिक्षा संस्था पुरस्कार
उत्कृष्ट विद्यार्थी- सारंग गुप्ता वीएमवी कॉलेज, उत्कर्ष राठी रामदेवबाबा इंजीनियरिंग कॉलेज, प्राजक्ता पाटिल राजीव गांधी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड रिसर्च, वर्षा वैभव सीपी एंड बेरार कॉलेज 
आदर्श अधिकारी- प्रदीप बिनीवाले, उपकुलसचिव
आदर्श कर्मचारी पुरस्कार -मेहताब खान (वर्ग-3), राजू अखंड और अनिल खरे (वर्ग 4), दिनेश गुप्ता कनिष्ठ लिपिक सिंधु महाविद्यालय पांच पावली (वर्ग-3)
यूनिवर्सिटी वार्षिकांक स्पर्धा - प्रथम पुरस्कार हिस्लॉप कॉलेज, दूसरा पुरस्कार यशवंतराव चौहान इंजीनियरिंग काॅलेज और तीसरा पुरस्कार कमला नेहरु महाविद्यालय
जिला निहाय  पुरस्कार- पोरवाल कॉलेज कामठी, मनोहर भाई पटेल कॉलेज साकोली भंडारा, मनोहरभाई पटेल कॉलेज ऑफ फार्मसी कुडवा गोंदिया, गोविंदराम सेकसरिया वाणिज्य कॉलेज वर्धा