दैनिक भास्कर हिंदी: फेसबुक फ्रेंड के चक्कर में लड़की घर से भागी, रेलवे पुलिस ने पकड़कर घर पहुंचाया

June 25th, 2018

डिजिटल डेस्क,नागपुर। जैसे-जैसे तकनीक विकसित हो रही है साइबर क्राइम भी बढ़ रहा है। फेसबुक के चक्कर में कई लोग परेशानी में आने की खबरें आए दिन सामने आती रहती है बावजूद इसके अपरिचित फेसबुक फ्रेंड्स के झांसे में लोग मुसीबत को बुला लेते हैं। खासतौर पर युवाओं पर फेसबुक का क्रेज कुछ अधिक हावी हो जाता है। ऐसा ही एक वाकया उस समय सामने आया जब अपने एक फेसबुक फ्रेंड के कहने पर भंडारा की नाबालिग लड़की  घर से भाग निकली।

दोनों को नागपुर रेलवे स्टेशन पर घूमते देखा गया और पूछताछ की गई तो सचाई सामने आई। बालिका को आरपीएफ ने भंडारा पुलिस के हवाले कर दिया। भंडारा पुलिस ने नाबालिग को उसकी मां और भाई के सुपुर्द किया। अारपीएफ उस युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। 

सूत्रों के अनुसार वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त, आरपीएफ नागपुर के ज्योति कुमार सतीजा के निर्देशन में अपराध की रोकथाम के लिए गठित किए गए दस्ते के उपनिरीक्षक जीएस एडले, प्रधान आरक्षक एसएम गजभिये  और आरक्षक प्रवीण चौहान गश्त कर रहे थे। 24 जून को गश्ती दल को नागपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 पर इटारसी छोर पर रात करीबन 11.15 बजे एक लड़का व एक लड़की संदिग्ध अवस्था में घूमते हुए दिखाई दिए। शक होने पर गश्ती दल ने दोनों से पूछताछ की। इस दौरान लड़के ने अपना और लड़की ने अपना नाम बताया।

लड़की के नाबालिग होने की बात पता चलने पर उपनिरीक्षक एडले ने दोनों से नागपुर रेलवे स्टेशन पर आने की वजह पूछने पर लड़की ने बताया कि वह लड़के को फेसबुक के माध्यम से जानती है। इन दोनों की फेसबुक पर दोस्ती हुई। उसके बाद गत 15 जून 2018 को यह घर में बिना किसी को बताए लड़के साथ नागपुर आ गई। इन दोनों से आगे की कहानी जानने के लिए उन्हें आरपीएफ थाना नागपुर लाकर निरीक्षक वीएन वानखेडे के समक्ष पेश किया गया। वानखेडे के आदेश पर भंडारा शहर पुलिस से संपर्क करने पर आरपीएफ को पता चला कि नाबालिग लड़की के अपहरण का मामला थाने में धारा 363 के अंतर्गत दर्ज किया गया है। उसके बाद नाबालिग लड़की को भंडारा पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया।