सनसनीखेज आरोप: औरंगाबाद के पूर्व पालकमंत्री विकास कोष के लिए ले रहे थे 10 प्रतिशत कमीशन

July 24th, 2022

डिजिटल डेस्क, वैजापुर। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे गुट के शिवसेना विधायक रमेश बोरनारे और शिवसेना नेताओं के बीच इन दिनों जमकर कर आरोप-प्रत्यारोप हो रहे हैं। शिंदे गुट मे शामिल होने के बाद बोरनारे ने शिवसेना के कई नेताओं पर आर्थिक लेन-देन के गंभीर आरोप लगाए हैं। इसी कड़ी में बोरनारे ने औरंगाबाद के पूर्व पालकमंत्री सुभाष देसाई पर आरोप लगाया है कि, वे विकास निधि के लिए 10 प्रतिशत कमिशन मांगते थे। बोरनारे ने कहा कि, मैंने स्वयं उन्हें कमिशन दिया है, फिर भी पूर्व सांसद पर मेरे 50 लाख रुपए बकाया हैं। बोरनारे ने धमकी देते हुए कहा कि, मैं ये पैसे उनसे वसूल कर ही रहुंगा।

वैजापुर के शिंदे गुट के शिवसेना विधायक रमेश बोरनारे ने न्यूज चैनलों से बात करते हुए पूर्व पालकमंत्री सुभाष देसाई पर आरोप लगाते हुए कहा कि, यदि किसी को एक करोड़ रुपये का निधि दिया गया, तो उसका 10 प्रतिशत यानी 10 लाख रुपए का कमीशन लेते थे। उन्होंने मुझसे भी 10 प्रतिशत कमिशन लिया है।

- खैरे के आरोपों का खंडन

चंद्रकांत खैरे के इस बयान पर कि, बोरनारे की बेटी की शादी के लिए उन्होंने 2 करोड़ रुपए थे। इस पर बोरनारे ने खैरे के आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि, 2019 के लोकसभा चुनाव में मैंने ही खैरे को 50 लाख रुपए दिए थे, जो उन्होंने आज तक नहीं लौटाए।

- विकास निधि में हमारे नेता ही रोड़ा बनते थे

उन्होंने कहा कि महा विकास अघाड़ी सरकार के दौरान शिवसेना नेता ही हमेशा विकास निधि मिलने में रोड़ा खड़ा करते थे। इसलिए  शिवसेना विधायको ने विद्रोह किया। शिवसेना में हमारी सुननेवाला कोई नहीं था, सिर्फ एकनाथ शिंदे ही ऐसे नेता थे, जो हमारी बात सुनते थे। हमें शिंदे का नेतृत्व पसंद आया, इसलिए सभी विधायकों  ने शिंदे गुट में जाने का फैसला किया। हमने शिवसेना को आगे बढ़ाने के लिए 25 साल तक खून-पानी एक किया।  

- राकांपा से गठबंधन शिवसेना की सबसे बड़ी गलती

बोरनारे ने कहा कि, राकांपा के साथ गठबंधन करना, शिवसेना की सबसे बड़ी गलती थी। हम सभी उद्धव ठाकरे को यही बात समझाने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन उन्होंने कभी हमारी बात सुनी ही नहीं।

- खैरे के खिलाफ मेरे पास बहुत सबूत हैं

बोरनारे ने कहा कि, खैरे को हमारे खिलाफ कुछ भी कहने का अधिकार नहीं है। वह हम पर एक के बाद एक झूठे आरोप लगा रहे हैं। जबकि, मेरे पास उनके खिलाफ बहुत सबूत हैं। वक्त आएगा, तो सबसे सामने उनका पर्दाफाश करुंगा। उस दिन खैरे का बुरखा फट जाएगा और उनका असली चेहरा सामने आ जाएगा।