दैनिक भास्कर हिंदी: नहीं लौटाए उधार लिए 15 लाख रुपए तो शूटरों को बुलाकर मार दी गोली, ब्यौहारी गोली कांड का खुलासा

March 30th, 2019

डिजिटल डेस्क, शहडोल। बहुचर्चित ब्यौहारी गोलीकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। जैसा कि शुरु से आंशका थी, हत्या का कारण पैसों का लेनदेन ही निकला। पुलिस के अनुसार ग्राम बोड्डिहा निवासी रामनारायण गौतम उर्फ मोनू 30 वर्ष ने यूपी के आजमगढ़ निवासी मुकेश सिंह 36 वर्ष से मुंंबई में कार्य करने के दौरान जेसीबी मशीन के लिए 15 लाख रुपए लिए थे। यह राशि लौटाने में आनाकानी के दौरान विवाद इतना बढ़ गया कि मुकेश सिंह ने अपने दो शूटरों को लाकर उसी के गांव में रामनाराण की गोली मारकर हत्या कर दी। यह घटना 11 मार्च की है। पुलिस ने आजमगढ़ जाकर आरोपी मुकेश सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। उसे पुलिस रिमांड में लेकर बाकी आरोपियों के बारे में पूछताछ की जा रही है।

गौरतलब है कि 11 मार्च की सुबह मोनू गौतम की तीन अज्ञात नकाबपोश बाइक सवार हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। दिन दहाड़े हुई हत्या की वारदात को लेकर क्षेत्र में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया था। जिस प्रकार से वारदात को अंजाम दिया गया उससे यह तो साफ था कि यह बाहरी लोगों की काम है, लेकिन पुलिस को आरोपियों तक पहुंचने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। 

मुंबई में मुकेश से लिए थे रुपए
पुलिस की तहकीकात में सबसे अहम तकनीकी तरीका कारगर साबित हुआ। मोनू गौतम की पिछली जिंदगी खंगालने पर पता चला कि वह वर्ष 2014 से लेकर 2018 तक मुंबई में रहा था। वहां से आने के बाद जेसीबी खरीद ली थी। वारदात के बाद पुलिस ने मृतक के मोबाइल में उन नंबरों को खंगाला जो सबसे अंतिम समय पर बात की गई। वह नंबर बाहर के मिले। जांच के दौरान पता चला कि मोनू मुंबई में मुकेश सिंह के साथ काम करता था, जिससे उसने करीब 15 लाख रुपए लिए थे। रुपए लेकर वह अपने घर आ गया। 

ब्यौहारी में ही रची साजिश
पुलिस के अनुसार मुकेश रहने वाला तो आजमगढ़ का है, लेकिन मुंबई में रहकर बाउंसर सप्लाई के साथ सूद में पैसे देने का काम करता है। लोगों को रुपए देने के बाद वसूली के लिए बल का प्रयोग भी करता था। अपने साथ रहे मोनू को उसने रुपए दिए थे, लेकिन मोनू लौटाने की बजाय अपने गांव भाग आया। मुकेश ने कई बार रुपए मांगे, लेकिन वह लौटा नहीं रहा था। अपना पैसा लेने वह 23 फरवरी को ब्यौहारी आया और 25 फरवरी तक रुककर मोनू से बातचीत करता रहा। इसी बीच दोनों में विवाद हो गया। मुकेश चला गया और 10 मार्च को फिर ब्यौहारी पहुंचा। यहीं से उसने आजमगढ़ से दो शूटरों को बुलाया और आटो में जा रहे मोनू को गोली मारकर भाग निकला। ब्यौहारी पुलिस पहले मुंंबई गई, लेकिन मुकेश नहीं मिला। इसके बाद आजमगढ़ पहुंचकर गिरफ्तार किया।

इनका कहना है
हत्या की वजह रुपयों का लेन देन सामने आया है। मुंबई में काम के दौरान मोनू ने मुकेश से रुपए लिए थे। मुकेश को गिरफ्तार कर लिया गया है। बाकी दो आरोपियों की तलाश की जा रही है।
कुमार सौरभ, एसपी शहडोल
 

खबरें और भी हैं...