दैनिक भास्कर हिंदी: मिशन माउंट एवरेस्ट के लिए रवाना हुई तामिया की भावना, 8848 पर चढ़ाई का लक्ष्य

March 27th, 2019

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा/तामिया। सतपुड़ा की पहाड़ियों पर बचपन गुजारने वाली 26 वर्षीय भावना डेहरिया का सपना कुछ ही दिनों बाद पूरा होने वाला है। तामिया गांव की बेटी भावना अब 22 अप्रैल से 21 मई के बीच माउंट एवरेस्ट के शिखर पर कदम रखेगी। कड़ी प्रतिस्पर्धा के बीच भावना का चयन मिशन माउंट एवरेस्ट के लिए किया गया है। मिशन के लिए गांव से रवानगी पर ग्रामीणों ने भावना को बाजे गाजे के साथ विदाई दी। भावना का सम्मान करने के लिए मंदिर प्रांगण में स्वागत समारोह का आयोजन किया गया।

पूजन अर्चन और बुजुर्गों का लिया आशीर्वाद
तामिया निवासी मुन्नालाल डेहरिया और उमादेवी डेहरिया के निवास पर रंगपंचमी पर्व पर अलग सा माहौल था। उनके परिजन और गांव के लोग डेहरिया परिवार की बेटी भावना को विदाई देने के लिए बाजे-गाजे के साथ उनके निवास पर पहुंचे थे। देलाखारी में पदस्थ शिक्षक मुन्नालाल की पुत्री भावना ने भोपाल में एमपीएड की डिग्री के बाद उत्तराकाशी में माउंटेनिंग यानी पर्वतारोहण का प्रशिक्षण लिया। इस दौरान उनका चयन मिशन माउंट एवरेस्ट के लिए हो गया। गांव में भ्रमण के बाद खेड़ापति माता मंदिर प्रांगण में भावना ने पूजा अर्चना कर बुजुर्गों का आशीर्वाद लिया। बस्ती में कई स्थानों पर महिला पुरुषों ने भावना का स्वागत किया। भावना 3 अप्रैल को दिल्ली से नेपाल के लिए रवाना होंगी।  

675 मीटर पर तामिया, 8848 मीटर पर शिखर
तामिया निवासी भावना का गांव समुद्र तल से महज 675 मीटर की ऊंचाई पर है। मिशन के तहत भावना अब दुनिया की सर्वाधिक ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट के शिखर पर यानी समुद्र तल से 8848 मीटर की ऊंचाई पर कदम रखने निकल गई है। भावना ने बताया कि 3 अप्रैल को दिल्ली से नेपाल की राजधानी काठमांडू पहुंचेंगी वहां से 6 अप्रैल को अभियान के लिए लुकला रवाना होंगी। 7 अप्रैल से 21 अप्रैल तक वे लुकला 2840 मीटर से एवरेस्ट बेस कैंप 5380 मीटर पहुंचेगी। इस बीच तीन दिन का प्रशिक्षण भी हासिल करेंगी। 19 अप्रैल को वे लोबूचे ईस्ट 6119 मीटर ऊंचाई पर होगी। 22 अप्रैल से 21 मई तक माउंट एवरेस्ट मिशन शुरु होगा।