comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

बड़े दलों ने छोटे मित्र दलों को दिया धोखा, युति-आघाडी का एक जैसा हाल 

बड़े दलों ने छोटे मित्र दलों को दिया धोखा, युति-आघाडी का एक जैसा हाल 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी भाजपा और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस से गठबंधन करने वाले छोटे दल ठगा महसूस कर रहे हैं। पक्ष और विपक्ष के प्रमुख दलों के चक्कर में छोटे दल पिस गए हैं। विधानसभा चुनाव में भाजपा चार सहयोगी दलों के साथ शिवसेना से महायुति करके चुनाव लड़ रही है। महायुति के सीट बंटवारे में भाजपा ने सहयोगी दलों के लिए 14 सीटें छोड़ने की घोषणा की, लेकिन भाजपा ने बड़ी चुतराई से सभी 14 सीटों पर अपनी पार्टी के उम्मीदवार उतार दिए। यानी ये सभी उम्मीदवार भाजपा के चुनाव चिन्ह पर लड़ेंगे। खास बात यह है कि इन 14 सीटों पर महायुति की ओर से जो उम्मीदवार मैदान में हैं उसमें से अधिकांश प्रत्याशी मूल रूप से भाजपा के ही हैं। 

भाजपा ने हमें ठगाः जानकर 

भाजपा के सियासी चाल से नाराज राष्ट्रीय समाज पक्ष (रासप) संस्थापक अध्यक्ष व प्रदेश के पशुपालन मंत्री महादेव जानकर ने अपने सहयोगी दल भाजपा पर धोखा देने का आरोप लगाया है। जानकर की पार्टी रासप के चुनाव चिन्ह पर भाजपा ने किसी को उम्मीदवारी नहीं दी है। केंद्रीय सामाजिक न्याय व अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले ने अपनी पार्टी आरपीआई को 5 सीटें मिलने का दावा किया है। लेकिन पांचों सीटों पर आरपीआई के कोटे से जो उम्मीदवार खड़े हैं उन सभी को भाजपा ने आरपीआई में भेजा है। मूल रूप से आरपीआई के एक भी नेता को उम्मीदवारी नहीं मिल सकी है। प्रदेश के कृषि राज्य मंत्री सदाभाऊ खोत के रयत क्रांति संगठन को भाजपा ने 3 सीटें दी हैं। खोत की पार्टी का दावा है कि 3 में से 2 सीटों पर पार्टी ने अपने मूल नेताओं को उम्मीदवार दी है। वहीं शिव स्मारक समिति के अध्यक्ष विनायक मेटे की पार्टी शिवसंग्राम को भाजपा ने दो सीटें दी हैं। मेटे ने बताया कि शिवसंग्राम को मुंबई की वर्सोवा और नांदेड़ की किनवट सीट से उम्मीदवारी मिली है। दोनों सीटों पर उम्मीदवार भाजपा के चुनाव चिन्ह पर लड़ेंगे। 

जानकर के बागी तेवर, शिवसेना की सीट पर उतारा उम्मीदवार 

महायुति में भाजपा की सहयोगी रासप ने बगावत कर दी है। रासप ने शिवसेना कोटे की गंगाखेड़ (परभणी) सीट पर अपना उम्मीदवार उतार दिया है। रासप के मुखिया जानकर ने कहा कि भाजपा ने रासप के चुनाव चिन्ह पर एक भी उम्मीदवार को चुनाव नहीं लड़ने दिया ऐसा करके भाजपा ने हम पर अन्याय किया है। इसके बावजूद रासप महायुति में बनी रहेगा क्योंकि अब चुनाव के लिए कुछ ही समय रह गया है। जानकर ने कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की ओर से रासप के लिए पुणे की दौंड सीट और परभणी की जिंतूर सीट छोड़ी गई थी। लेकिन आखिरी मौके पर भाजपा के प्रदेश नेतृत्व ने दोनों सीटों पर हमारे उम्मीदवारों को पर्चा भरने के लिए अपना बी फार्म दे दिया। दौंड़ सीट से उम्मीदवार राहुल कुल और गंगाखेड सीट से उम्मीदवार मेघना बोर्डीकर साकोरे ने भाजपा का बी फार्म भरा। जिसके बाद रासप ने कुल और मेघना को पार्टी से निकाल दिया है। रासप ने परभणी की गंगाखेड़ सीट पर रत्नाकर गुट्टे को प्रत्याशी बनाया है। लेकिन बंटवारे में गंगाखेड़ की सीट शिवसेना के कोटे में है। गंगाखेड़ सीट पर शिवसेना और रासप के बीच मैत्रीपूर्ण लड़ाई होगी। जानकर ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील से पूछा कि भाजपा ने दोनों सीटों पर रासप के उम्मीदवीरों को बी फार्म कैसे दिया तो दोनों नेताओं ने कहा कि मुझे नहीं मालूम। जानकर ने कहा कि मेरी मुख्यमंत्री और शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे से अपील है कि वे मुझे एक सीट पर सहयोग करें मैं उन्हें 287 सीटों पर सहयोग देने के लिए तैयार हूं। 

कांग्रेस के मन में कपट, सपा के साथ धोखा किया- आजमी

दूसरी ओर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का गठबंधन बनते-बनते आखिरकार बिगड़ गया है। समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रदेश अध्यक्ष अबू आसिम आजमी ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा कि कांग्रेस के मन में कपट है। कांग्रेस ने सपा के साथ धोखा किया है। कांग्रेस ने सपा के उम्मीदवार के लिए भिवंड़ी पूर्व की सीट छोड़ने का वादा किया था। लेकिन अंतिम समय में कांग्रेस ने इस सीट पर अपना उम्मीदवार उतार दिया। इसके बाद हमने कांग्रेस से गठबंधन तोड़ दिया है।

कमेंट करें
6u58k
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।