दैनिक भास्कर हिंदी: छिंदवाड़ा को बड़ा झटका... 998 करोड़ रुपए की माचागोरा समूह जलप्रदाय योजना निरस्त

September 25th, 2020

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। प्रदेश शासन ने माचागोरा समूह जलप्रदाय योजना फिलहाल निरस्त कर दी है। योजना की निविदा को निरस्त करते हुए इसे जल जीवन मिशन के मापदंड अनुसार पुनरीक्षित करने के निर्देश मप्र जल निगम को दिए हैं। करीब तीन साल से जिले में समूह जलप्रदाय की करीब 998 करोड़ की उक्त योजना के जमीन पर उतरने का इंतजार हो रहा है। पिछली कमलनाथ सरकार ने उक्त प्रोजेक्ट को मंजूरी दी थी। इसके साथ ही टेंडर प्रक्रिया शुरू हुई थी। टेंडर में देश की करीब आठ कंपनियों ने हिस्सा लिया था। पूर्व में दो बार टेंडर ओपन होने की तारीख बढ़ाई गई। अब निविदा पूरी तरह से निरस्त कर दी गई है। शासन ने 22 सितंबर को जारी आदेश में छिंदवाड़ा सहित 9 जिलों से संबंधित कुल 15 परियोजनाओं की निविदाएं निरस्त की हैं।  
ऐसी थी माचागोरा समूह जलप्रदाय योजना
711 गांवों में पानी पहुंचाने का है प्रोजेक्ट:
समूह जलप्रदाय योजना के जरिए माचागोरा बांध से जिले के सात ब्लॉकों के 711 गांवों में पेयजल पहुंचाया जाना है। इसमें छिंदवाड़ा के 107, मोहखेड़ 153, परासिया 131, जुन्नारदेव 07, अमरवाड़ा 63, बिछुआ 70, चौरई के 180 गांवों में पानी पहुंचाना है। जल निगम ने इसके लिए टेंडर प्रकिया शुरू की थी।
285 टंकियां बनेंगी, 4 हजार किमी पाइप लाइन:
प्रोजेक्ट के तहत माचागोरा बांध में इंटेकवेल और ट्रीटमेंट प्लांट की स्थापना होगी। गांवों में पानी स्टोरेज के लिए 285 ओवरहेड टैंक का निर्र्माण होगा। वहीं सात ब्लॉकों तक पानी पहुंचाने के लिए 4090 किमी पाइप लाइन बिछाई जाएगी। टंकियों को 1170 किमी पाइप लाइन और गांवों को 2920 किमी पाइप लाइन से जोड़ा जाएगा।
98 एमएलडी पानी हर दिन लेंगे, हर घर में पहुंचेगा पानी:
समूह जलप्रदाय योजना के तहत माचागोरा बांध से हर दिन 98.10 एमएलडी पानी लिया जाएगा। इसके लिए जल निगम ने जल संसाधन विभाग से 27 एमसीएम पानी की मांग रखी है। इतना पानी माचागोरा बांध में रिजर्व भी कर दिया गया है। गांवों में पाइप लाइन बिछाकर हर घर में कनेक्शन देकर पानी पहुंचाया जाएगा।
छिंदवाड़ा के साथ सौतेला व्यवहार:
प्रदेश की भाजपा सरकार बदले की भावना से काम कर रही है। माचागोरा समूह जलप्रदाय योजना का निरस्त होना छिंदवाड़ा की जनता के साथ सौतेला व्यवहार है। छिंदवाड़ा की जनता का क्या कसूर है। यहां की विकास योजनाओं का पैसा दूसरे स्थानों पर शिफ्ट किया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज का फंड इंदौर को दे दिया गया। कांग्रेस विधायक इस मामले को जोर शोर से उठाएंगे। दूसरे जिलों में किसानों को मुआवजा दिया जा रहा जबकि छिंदवाड़ा के किसानों से भेदभाव किया जा रहा है। जनता के हक की लड़ाई लड़ी जाएगी।
- नकुलनाथ, सांसद

खबरें और भी हैं...