दैनिक भास्कर हिंदी: BJP कार्यकर्ता समेत परिवार के पांच लोगों की हत्या सेे दहली उपराजधानी

June 11th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। खरबी क्षेत्र के आराधना नगर में सोमवार की तड़के भाजपा कार्यकर्ता समेत 5 लोगों की हत्या कर दी गई। मृतकों में कमलाकर पवनकर (52), उनकी पत्नी अर्चना पवनकर (45), कमलाकर की बेटी वेदांति पवनगर (12), कमलाकर की मां मीराबाई (72), आैर उसका भांजा कृष्णा विवेक पालटकर (5) शामिल है। कृष्णा उसका (कमलाकर) का भांजा है।

पता चला है कि कमलाकर प्रापर्टी डीलिंग का काम करता था। घटना को संपति विवाद के चलते अंजाम दिए जाने की बात कही जा रही है। कहा तो यह भी जा रहा है कि कृष्णा के पिता विवेक पालटकर अपने जीजा कमलाकर से एक लाख रुपए व्यवसाय करने के लिए मांग रहा था। पैसे नहीं देने पर कमलाकर और विवेक गुलाब पालटकर (42) नवरगांव मौदा निवासी के बीच तनातनी चल रही थी। पुलिस इस दिशा में जांच कर रही है। घटना के बाद से पालटकर फरार है। उसकी बाइक कमलाकर के घर के सामने खड़ी मिली, वह कल रात कमलाकर के घर में आया था। विवेक की बेटी वैष्णवी आैर कमलाकर की बेटी मिताली दूसरे कमरे में सोने की वजह से उनकी जान बच गई। जिन लोगों की हत्या की गई है , वे सभी एक ही कमरे सोए हुए थे। जिससे आरोपी ने उन्हें नींद में ही मौत की नींद सुला दी। पुलिस का मानना है कि घटना को तीन से चार आरोपियों ने मिलकर अंजाम दिया है। विवेक के फरार हो जाने से शक की सुई पूरी तरह उसकी ओर है।

दूसरे कमरे में सोई बच्चियां बचीं
पुलिस सूत्रों के अनुसार आराधना नगर खरबी रोड निवासी कमलाकर पवनकर और उनकी पत्नी, बेटी , मां और भांजे की हत्या कर दी। घटना का खुलासा सोमवार की सुबह दो बच्चियों के सोकर उठने पर हुआ। वह कुछ दूरी पर रहने वाले अपने रिश्तेदार के घर में गई और उन्हें बताया कि किसी ने सभी को मार डाला। उसके बाद वहां भीड़ जमा हो गई। नंदनवन पुलिस को सूचना मिलने पर पुलिस दल, फारेंसिक टीम, अपराध शाखा पुलिस दल, फिंगर प्रिंट विशेषज्ञों और श्वान दस्ते को बुलाया गया। अंदर का नजारा देखकर पुलिस के रोंगटे खडे कर दिया। कमलाकर, अर्चना, कृष्णा और वेदांति का शव कमरे में पडा था। कमलाकर को आरोपियों ने घसीटकर रसोईघर में ले जाकर वहां पर हत्या की। इन सभी की हत्या लोहे के सब्बल से की गई है। पुलिस ने एक सब्बल जब्त किया है। हमलावर ने बारी- बारी से हत्या की वारदात को अंजाम दिया है।

पुलिस का मानना है कि पहले कमलाकर, फिर उसकी पत्नी, मां और फिर दोनों मासूम बच्चों का कत्ल कर दिया गया। इस घटना से शहर में सनसनी फैला दी है। आरोपियों की खोजबीन के लिए अलग- अलग दस्ते बनाए गए हैं। 

कमलाकर ने विवेक की मदद की थी
विवेक पालटकर ने अपनी पत्नी सविता की तीन वर्ष पहले हत्या कर दी थी। उसे मौदा पुलिस ने पत्नी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था। उसके जेल जाने के बाद कमलाकर ने कृष्णा और वैष्णवी को अपने पास रखकर उनकी परवरिश कर रहा था। जेल से छूटने के बाद वह दोनों बच्चों की मांग कमलाकर से कर रहा था। कमलाकर उसकी दूसरी शादी कराने के लिए तैयार हो गए थे। दोनों बच्चों की परवरिश कमलाकर ने अपने कंधे पर ले ली थी। घटना को विवेक ने क्यों अंजाम दिया। इसका खुलासा उसके पकडे जाने पर होगा।