विधानसभा चुनाव: उम्मीदवार उतारने की तैयारी में जुटा भाजपा का अल्पसंख्यक मोर्चा, सिद्धीकी ने कहा - सीटों की पहचान हुई

January 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। उत्तरप्रदेश सहित पांच राज्यों में होनेवाले विधानसभा चुनावों में भाजपा का अल्पसंख्यक मोर्चा अल्पसंख्यक व विशेषकर मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधि को उम्मीदवार बनाने के प्रयास में जुटा है। मोर्चा ने मुस्लिम बाहुल्य सीटों की सूची तैयार की है। भाजपा के अध्यक्ष जेपी नड्डा व केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से चर्चा करके इन सीटों के बारे में निर्णय लिया जाएगा। गौरतलब है कि भाजपा में चुनाव राजनीति के तहत अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधित्व को नजरअंदाज करने के आरोप लगते रहे हैं। विविध राज्यों में भाजपा के अल्पसंख्यक समुदाय के विधायकों की संख्या कम है। उत्तरप्रदेश में 2017 का चुनाव विशेष रणनीति के साथ लड़ा गया था। उस दौरान पूरे राज्य में भाजपा ने एक भी मुस्लिम उम्मीदवार नहीं उतारा था।भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष जमाल सिद्धीकी ने कहा है कि इस बार स्थिति अलग रह सकती है। अकेले उत्तरप्रदेश में करीब 20 सीटाें पर मुस्लिम उम्मीदवार का अाग्रह भाजपा से प्रमुखता के साथ किया जाएगा। सिद्धीकी के अनुसार अल्पसंख्यक मोर्चा ने उत्तरप्रदेश में करीब 100 सीटों की पहचान की है। इन सीटाें में अल्पसंख्यक समुदाय के मतदाताओं का प्रभाव अधिक है। ऐसी कई सीटें हैं जहां मुस्लिम आबादी अच्छी खासी है। इसके अलावा ऐसी भी सीटें हैं जहां भाजपा कम मतों के अंतर से पराजित हुई थी। संबल, मुरादाबाद, मेरठ जैसे क्षेत्रों में मुस्लिम समुदाय के मतदाताओं की संख्या अधिक है। करीब 140 विधानसभा क्षेत्र में 15 से 20 प्रतिशत व 100 विधानसभा क्षेत्र में 30 प्रतिशत से अधिक अल्पसंख्यक समुदाय है। उत्तराखंड के हरिद्धार जिले की दो विधानसभा सीटों की भी ऐसी ही स्थिति है। सिद्धीकी कहते हैं कि उत्तराखंड में कम से कम एक सीट की मांग की जाएगी। मणिपुर की निलंगा सीट पर प्रमुखता से दावा किया जाएगा। पश्चिम बंगाल के चुनाव में अल्पसंख्यक समुदाय को प्रतिनिधित्व देने का लाभ हुआ था। उस अनुभव का लाभ लिया जाएगा।