दैनिक भास्कर हिंदी: विदर्भ के जंगल में भी मौजूद है, केरला में पाया जानेवाला ब्राउन मोंगोस

April 23rd, 2020

डिजिटल डेस्क,नागपुर। केरला व तमिलनाडू के सदन वेर्स्टन घाट में पाया जानेवाला ब्राउन मोंगोस विदर्भ के जंगल में भी मौजूद है। हाल ही में एक बॉयोलॉजिस्ट ने इसे अपने कैमरे में कैद किया है। दुर्लभ प्रजाति का यह वन्यजीव अब तक माना जाता था, कि इसे पूरे राज्य में नहीं देखा गया है। लेकिन एक फोटो सेशन के दौरान इसे कैमरे में कैद किया गया। इसके अलावा भी ताडोबा के जंगल में अन्य दुर्लभ प्रजाति के जानवर मौजूद होने का दावा किया जा रहा है।

माना जा रहा था उंचाई व कद में सामान्य मोंगोस जैसा दिखनेवाला ब्राउन मोंगोस महाराष्ट्र के जंगलों में इसका निवास नहीं है। इसे केवल केरल व तमिलनाडू में ही देखा जाता है। लेकिन बॉयोलॉजिस्ट अनिरूध्द चावोजी ने दावा किया है, कि उन्होंने इसका फोटो अपने कैमरे में वर्ष 2019 के फरवरी माह में ही कैद किया था। लेकिन इसे वह पहचान नहीं पाए थें, लेकिन हाल ही में मैसूर में एक वाइल्ड लाइफ साइंटिस्ट ने जब इसी प्रजाति के एक मोंगोस का फोटो खींचकर वायरल किया, तब उन्हें पता चला कि, यह वही वन्यजीव है। जो ताडोबा के जंगल में भी मौजूद है। 

साइंटिस्ट ने इसका फोटो पद्मापुर माहुलरली में खींचा था। वह बताते हैं, यह जीव आम मोंगोस जैसा ही दिखता है, लेकिन इसकी पूंछ काफी मोटी होती है। जिसे वह लगातार एक तरफ से दूसरी तरफ पलटाता रहता है। पहली बार इसे देखने पर उन्हें यह किसी पेड़ के पत्ते जैसा लगा था। लेकिन जब वह लगातार मूवमेंट कर रहा था, तब वह एक जीव होने की बात समझ में आई। यह जीव लेपर्ड व टायगर द्वारा शिकार करने पर उन्होंने छोड़ा हुआ मांस खाता है। उनका कहना है, कि यह जीव ताडोबा में इन दिनों आमतौर पर देखने मिल सकता है।